मुख्यमंत्री को लेकर कहे गए अपशब्द को लेकर भाजपा ने की चुनाव आयोग से शिकायत
मुख्यमंत्री को लेकर कहे गए अपशब्द को लेकर भाजपा ने की चुनाव आयोग से शिकायत
मध्य-प्रदेश

मुख्यमंत्री को लेकर कहे गए अपशब्द को लेकर भाजपा ने की चुनाव आयोग से शिकायत

news

भोपाल, 14 अक्टूबर (हि.स.)। एक तरफ जहां भूखे नंगे शब्द को लेकर प्रदेश की राजनीति गर्माई हुई है, वहीं भारतीय जनता पार्टी ने इसकी शिकायत बुधवार को चुनाव आयोग से की है। पार्टी का प्रतिनिधिमंडल बुधवार को मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय पहुंचा और इस संबंध में लिखित शिकायत सौंपकर कार्रवाई की मांग की। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश महामंत्री भगवान दास सबनानी, प्रदेश प्रवक्ता राहुल कोठारी, विधि प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक संतोष शर्मा, रवि गोयल, रविन्द्र यती, बलवीर यादव बुधवार को मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय पहुंचे और शिकायत दर्ज कराई। प्रतिनिधिमंडल द्वारा की गई शिकायत में कहा गया है कि 11 अक्टूबर को अशोकनगर के राजपुर कस्बे में कांग्रेस के किसान मोर्चा अध्यक्ष दिनेश गुर्जर द्वारा पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की उपस्थिति में एक चुनावी जनसभा में यह वक्तव्य दिया गया कि कमलनाथ देश में दूसरे नंबर के उद्योगपति हैं, शिवराज की तरह वह भूखे-नंगे घर से नहीं है। कांग्रेस के नेता दिनेश गुर्जर का यह कथन मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के व्यक्तिगत जीवन पर की गई एक आपत्तिजनक टिप्पणी है, जो कि आदर्श चुनाव आचार संहिता का घोर उल्लंघन होकर दण्डात्मक श्रेणी की है। उक्त टिप्पणी में दिनेश गुर्जर द्वारा प्रदेश के संवैधानिक पद पर बैठे मुख्यमंत्री को नंगे घर से होने की उपमा दी है जो कि ना सिर्फ शिवराज सिंह चौहान अपितु उनके संपूर्ण परिवार के विरूद्ध है। शिकायत में कहा गया है कि ‘‘नंगा’’ शब्द असंसदीय शब्दों की श्रेणी में आकर आपत्तिजनक है और इस प्रकार के शब्दों का उपयोग किसी भी तरह से उचित नहीं है, परंतु दिनेश गुर्जर द्वारा उक्त वक्तव्य सार्वजनिक आमसभा में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की मौजूदगी में दिया गया है, जिससे स्वयं प्रमाणित होता है कि कांग्रेस पार्टी और कमलनाथ उक्त वक्तव्य से पूर्ण रूप से सहमत हैं। शिकायत में कहा गया है कि 14 अक्टूबर को पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने गुना में कांग्रेस प्रत्याशी कन्हैयालाल अग्रवाल के समर्थन में की गई जनसभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि शिवराज सिंह चौहान तो नौटंकी के कलाकार हैं और उन्हें मुम्बई जाकर एक्टिंग करना चाहिए। इसके अलावा कमलनाथ ने भाजपा शासित सरकार को ‘‘गद्दारों की सरकार’’ सम्बोधित करते हुए भी मानहानि कारक टिप्पणी की है, जो कि मध्यप्रदेश चुनाव आयोग द्वारा जारी आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन है। इस पर कार्रवाई होना चाहिए। भाजपा प्रतिनिधिमंडल ने चुनाव आयोग में यह शिकायत भी की है कि रायसेन जिले के सांची थाने में अवैध शराब पकड़ी गई है। यह शराब विदिशा मार्ग से सागर जिले की सुरखी विधानसभा ले जाई जाने के सम्बंध में जानकारी प्राप्त हुई है। कांग्रेस प्रत्याशी पारूल साहू द्वारा चुनाव को विपरीत रूप से प्रभावित करने के दुराशय से इस प्रकार के अवैध शराब को अपने परिवार के सदस्यों के माध्यम से संग्रहित की जा रही है। साथ ही सुरखी थाना प्रभारी द्वारा चर्तुभुटा गांव निवासी किशोरी साहू के घर से भी अवैध शराब जब्त की गई है। जानकारी के अनुसार उक्त किशोरी साहू सुरखी के कांग्रेस प्रत्याशी पारूल साहू के परिवार से है तथा उक्त अवैध शराब का प्रयोग उपचुनाव में कांग्रेस द्वारा अवैधानिक रूप से प्रभाव डालने हेतु किया जाना था। कांग्रेस के विज्ञापन में आईपीएस अधिकारियों के फोटो-वीडियो भाजपा प्रतिनिधिमंडल ने चुनाव आयोग में शिकायत दर्ज कराई है कि कांग्रेस पार्टी द्वारा विज्ञापन के माध्यम से आदर्श चुनाव आचार संहिता एवं एम.सी.एम. कमेटी के नियमों का उल्लंघन किया गया है। कांग्रेस ने अपने विज्ञापन में आईपीएस अधिकारी मनोज राय एवं अन्य पुलिसकर्मियों के फोटो-वीडियो दिखाए हैं। इसको लेकर कांग्रेस की मीडिया सेल, प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ सहित अन्य संबंधितों के विरूद्ध आचार संहिता के उल्लंघन की कार्यवाही की जाए। हिन्दुस्थान समाचार/केशव दुबे-hindusthansamachar.in