मानवीय पहलूओं पर ध्यान देते हुए मरीजों का उपचार करें प्रावयेट चिकित्सक : बिसेन
मानवीय पहलूओं पर ध्यान देते हुए मरीजों का उपचार करें प्रावयेट चिकित्सक : बिसेन
मध्य-प्रदेश

मानवीय पहलूओं पर ध्यान देते हुए मरीजों का उपचार करें प्रावयेट चिकित्सक : बिसेन

news

विधायक बिसेन ने की कोरोना संक्रमण से निपटने की गई तैयारियों की समीक्षा बालाघाट, 07 अक्टूबर (हि.स.) । प्रदेश के पूर्व कृषि मंत्री एवं वर्तमान विधायक गौरीशंकर बिसेन ने कहा कि कोरोना संकट के कारण प्रायवेट अस्पतालों में सामान्य बीमारी के मरीजों का उपचार रूकना नहीं चाहिए। हृदय रोग या अन्य गंभीर उपचार के लिए प्रायवेट अस्पताल में आये तो कोरोना टेस्ट के बहाने उसके उपचार में विलंब नहीं होना चाहिए। बल्कि ऐसे मरीजों को कोरोना पाजेटिव मानकर पूरी सावधानी एवं सर्तकता के साथ प्राथमिक उपचार मिलना चाहिए। यह निर्देश विधायक बिसेन ने बुधवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित आईएमए के चिकित्सकों एवं प्रायवेट चिकित्सकों की बैठक में दिए। विधायक बिसने ने बैठक में बालाघाट जिले में कोरोना संक्रमण से निपटने के लिए की गई तैयारियों की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि प्रावयेट चिकित्सक भी मानवीय पहलूओं पर ध्यान देते हुए मरीजों का उपचार करें। जिन मरीजों में कोरोना के लक्ष्य हों उसे कोरोना टेस्ट के लिए जिला चिकित्सालय के फीवर क्लीनिक में भिजवायें। प्रायवेट क्लीनिक का कोई मरीज कोरोना पाजिटिव पाया जाता है उस पूरे कलीनिक को सील न किया जाये। इससे अन्य मरीजों को उपचार नहीं मिल पाता है। बिसेन ने कहा कि कोरोना संकट के दौरान आयुष चिकित्सकों ने अथक परिश्रम किया है और कोरोना पाजेटिव मरीजों के उपचार में अपना बहुमूल्य योगदान दिया है। सभी आयुष चिकित्सकों का सम्मान किया जायेगा और उनकी जो भी मांगे हैं, उन पर सहानुभूति पूर्वक विचार किया जायेगा। बैठक में कलेक्टर दीपक आर्य ने बताया कि बालाघाट जिले में कोरोना पाजेटिव मरीजों के उपचार के लिए पर्याप्त संख्या में बेड का इंतजाम किया गया है। कोरोना पाजेटिव हल्के लक्षणों वाले मरीजों के लिए बैहर में 25 एवं लांजी में 50 बेड की व्यवस्था की गई है। इस प्रकार जिले में कुल 575 बेड हल्के लक्षणों वाले मरीजों के लिए उपलब्ध है। 105 बेड आक्सीजन सुविधा वाले है। इसके अलावा 15 आईसीयू बेड चिकित्सालय में दो दिनों में तैयार हो जायेंगें। जिले में 09 वेंटिलेटर की भी व्यवस्था है। अब तक बालाघाट जिले में 25 हजार 185 मरीजों के सेंपल कोरोना टेस्ट के लिए एकत्र किये गये है। इसमें से 1349 मरीज कोरोना पाजेटिव पाये गये है। जिले में अब लाकडाउन नहीं किया जायेगा। बल्कि आम जन को कोरोना संक्रमण से बचने के लिए अधिक सावधानी एवं सर्तकता बरतना होगा। इस दौरान प्रायवेट चिकित्सकों से कहा गया कि जरूरत पड़ने पर जिला चिकित्सालय एवं कोविड अस्पताल में अपनी सेवायें देने के लिए तैयार रहें। प्रायवेट चिकित्सकों ने भी इस बात पर सहमति दी कि जब उन्हें बुलाया जायेगा वे अपनी सेवायें देने तत्पर रहेंगें। बैठक में पुलिस अधीक्षक अभिषेक तिवारी, अपर कलेक्टर फ्रेंक नोबल ए, सहायक कलेक्टर दलीप कुमार, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ मनोज पांडेय, सिविल सर्जन डॉ आर के मिश्रा एवं सभी प्रायवेट चिकित्सक उपस्थित रहे। हिन्दुस्थान समाचार / उमेद-hindusthansamachar.in