मप्र में झमाझम बारिश का दौर शुरू, कई जिलों में आरेंज और यलो अलर्ट जारी
मप्र में झमाझम बारिश का दौर शुरू, कई जिलों में आरेंज और यलो अलर्ट जारी
मध्य-प्रदेश

मप्र में झमाझम बारिश का दौर शुरू, कई जिलों में आरेंज और यलो अलर्ट जारी

news

भोपाल, 22 सितम्बर (हि.स.)। मध्यप्रदेश में एक बार फिर बारिश का दौर शुरु हो गया है। बंगाल की खाड़ी में बने निम्नदाब के क्षेत्र के कारण प्रदेश के अधिकतर जिलों में बारिश हो रही है। मंगलवार सुबह से झाबुआ और भोपाल समेत कई जिलों में झमाझम बारिश का दौर जारी है। मौसम विभाग ने मंगलवार को कई जिलों में अति भारी और भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। विभाग ने आज एक साथ येलो और ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। मौसम विभाग ने 10 संभागों और करीब एक दर्जन जिलों में गरज चमक के साथ भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। इसी के चलते देर रात तवा डेम के 3 गेट खोल दिए गए है। वही अन्य बांधों के गेट खोलने की संभावना है। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक अजय शुक्ला के मुताबिक बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बन गया है, जिसके चलते प्रदेश में तीन-चार दिन तक अच्छी बरसात होने की संभावना है। मंगलवार को रीवा, शहडोल, जबलपुर, सागर संभाग में कई स्थानों पर भारी वर्षा हो सकती है। इंदौर, उज्जैन, होशंगाबाद, भोपाल संभाग के जिलों में गरज-चमक के साथ तेज बौछारें पड़ सकती हैं। वही ग्वालियर चंबल संभाग में मंगलवार को मध्यम बारिश का दौर शुरू होने के आसार है। 23 सितंबर को ग्वालियर, मुरैना, भिंड, दतिया, शिवपुरी, श्योपुर, गुना, अशोकनगर में कहीं कहीं भारी बारिश भी हो सकती है। इसके प्रभाव से धीरे-धीरे बारिश की गतिविधियों में वृद्धि देखने को मिलेगी। मध्य प्रदेश के पूर्वी तथा मध्य क्षेत्रों में कम से कम 25 सितंबर तक कई जगहों पर मध्यम से भारी मॉनसूनी वर्षा होती रहेगी। 24 सितंबर के बाद आसमान साफ हो जाएगा। उसके बाद मानसून की विदाई की शुरुआत हो जाएगी। तवा डेम के तीन गेट खोले इटारसी और आसपास के क्षेत्रों में देर रात फिर मॉनसून सक्रिय हो गया जिसके कारण बीती रात को दो बजे, तवाडेम के तीन गेटों को तीन-तीन फीट पर खोला गया है। हजार क्यूसेक पानी नर्मदा नदी में छोड़ा जा रहा, वहीं तवाडेम का जल स्तर 1,166 फीट है। बारिश हो जाने से जहां तापमान में भी गिरावट दर्ज की गई जिससे लोगों को भीषण गर्मी और उमस से राहत मिली है, लेकिन इस बारिश ने किसानों की सोयाबीन और धान की फसल को लेकर चिंता बढ़ा दी है। तवा डेम के तीन गेटों से पानी छोड़े जाने के बाद नर्मदा नदी के जलस्तर में बढ़ोतरी दर्ज की गई है। फिलहाल डेम का वॉटर लेवल 1,166 फीट पर है, वहीं एसडीओ ने बताया कि बारिश से डेम से एचईजी को बिजली बनाने के लिए 20 हजार क्यूसेक पानी दिया जा रहा है। इन जिलों में अति भारी बारिश की चेतावनी (ऑरेंज अलर्ट) शहडोल संभाग के जिले, विदिशा, बालाघाट, रायसेन जिलों में। इन जिलों में भारी बारिश की चेतावनी (येलो अलर्ट) सागर और होशंगाबाद संभाग के जिले, रीवा , सतना, सीहोर, राजगढ, अलीराजपुर, झाबुआ, धार, देवास, शाजापुर, अशोकनगर। इन संभागों में कही गरज चमक के साथ बारिश रीवा, जबलपुर, शहडोल, भोपाल, उज्जैन, इंदौर, होशंगबाद,सागर, ग्वालियर और चंबल संभागों के जिलों में कहींं-कहींं। हिन्दुस्थान समाचार/ नेहा पाण्डेय / उमेद-hindusthansamachar.in