मप्रः राजधानी भोपाल समेत पश्चिमी जिलों में बारिश की संभावना
मप्रः राजधानी भोपाल समेत पश्चिमी जिलों में बारिश की संभावना
मध्य-प्रदेश

मप्रः राजधानी भोपाल समेत पश्चिमी जिलों में बारिश की संभावना

news

भोपाल, 16 अक्टूबर (हि.स.)। मध्य प्रदेश में मानसून अभी पूरी तरह से विदा नहीं हुआ है। पिछले कुछ दिनों के दौरान मध्य प्रदेश के पूर्वी जिलों में हल्की वर्षा रुक-रुक कर होती रही है। लेकिन पश्चिमी भागों में अब तक मौसम मुख्यत: शुष्क ही रहा है। इस सप्ताह मध्य प्रदेश के लगभग सभी जिलों में वर्षा का अनुमान है। अति कम दबाव का क्षेत्र वर्तमान में दक्षिण मध्य महाराष्ट्र पर बना हुआ है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक इसके प्रभाव से महाराष्ट्र के कुछ क्षेत्रों में अच्छी बरसात हो रही है। शुक्रवार को जबलपुर, होशंगाबाद, भोपाल, इंदौर संभाग में कहीं-कहीं बरसात होने की उम्मीद है। वरिष्ठ मौसम वैज्ञानिक पीके साहा ने शुक्रवार को जानकारी देते हुए बताया कि महाराष्ट्र पर बने सिस्टम के शुक्रवार को उत्तर-पश्चिम दिशा में अरब सागर की तरफ बढऩे की संभावना है। साथ ही उसके अवदाब में बदलने के भी आसार हैं। इस वजह से दक्षिणी मप्र के जिलों में शुक्रवार और शनिवार को भी बरसात होने के आसार हैं। अगले 24 घंटों के दौरान मध्य प्रदेश के दक्षिणी, दक्षिण-पूर्वी और दक्षिण-पश्चिमी जिलों में वर्षा की गतिविधियां बढ़ सकती है। उज्जैन, रतलाम, इंदौर, खंडवा, खरगोन, भोपाल, बैतूल, होशंगाबाद, शिवपुरी, देवास, मांडला तथा जबलपुर आदि जिलों में वर्षा होने की संभावना है। मौसम विभाग के अनुसार 18 तथा 19 अक्टूबर को पश्चिमी जिलों में वर्षा की गतिविधियां बढ़ सकती हैं। इस दौरान उत्तरी भागों में भी बारिश की गतिविधियां हमें देखने को मिल सकती हैं। 20 और 21 अक्टूबर को वर्षा में कमी आएगी परंतु दक्षिणी जिलों में छिटपुट वर्षा जारी रहेगी। 21 तथा 22 अक्टूबर को पूर्वी जिलों में वर्षा की गतिविधियां एक बार फिर बढ़ेगी उसका कारण बंगाल की खाड़ी में आंध्रप्रदेश के तटों के आसपास बनने वाला एक नया निम्न दबाव का क्षेत्र होगा। हिन्दुस्थान समाचार/ नेहा पाण्डेय-hindusthansamachar.in