भील पंचायत का फैसलाः पति को कंधे बैठाकर महिला ने गांव में घुमाया, प्रकरण दर्ज
भील पंचायत का फैसलाः पति को कंधे बैठाकर महिला ने गांव में घुमाया, प्रकरण दर्ज
मध्य-प्रदेश

भील पंचायत का फैसलाः पति को कंधे बैठाकर महिला ने गांव में घुमाया, प्रकरण दर्ज

news

झाबुआ, 30 जुलाई (हि.स.)। प्रदेश के आदिवासी जिले झाबुआ में एक बार फिर भील पंचायत के फैसले से मानवीयता तार-तार हो गई। कोतवाली थाना अंतर्गत पारा पुलिस चौकी के गांव छापरी रणवास का गुरुवार को एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें एक महिला अपने पति को कंधे पर बैठाकर गांव के चक्कर लगा रही है। बताया गया है कि आदिवासी पंचायत द्वारा प्रेम प्रसंग के मामले में उसे यह सजा दी गई थी। जानकारी के मुताबिक, महिला प्रेम प्रंसग के चलते अपने पति को छोड़कर किसी अन्य युवक के साथ चली गयी थी, लेकिन जब परिजन उसे वापस लाये तो महिला के सुसराल छापरी गांव में गत दिवस भील पंचायत बुलाई गयी। पंचायत ने महिला को मानवीयता को तार तार करने वाली सजा दे दी। महिला केा अपने पति को कंधे पर बैठाकर पूरे गांव में घुमाया। इतना ही नहीं, भीड के कुछ लोगों के हाथ मे डण्डे भी थे और जब भी महिला रुकती, उसे पीछे से डण्डे भी मारे जा रहे थे। वीडियो में यह नजारा साफ-साफ देखा जा रहा है। बुधवार को ही महिला कोतवाली थाना पहुंची और प्रकरण दर्ज कराया। महिला की शिकायत पर पुलिस ने पति समेत सात लोगों के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर उनकी गिरफ्तारी के प्रयास शुरू कर दिये हैं। कोतवाली थाना प्रभारी सुरेन्द्र सिह गाडरीया ने बताया कि महिला की शिकायत पर आईपीसी की धारा 354, 355, 147, 149, 294, 506 के अतर्गत मामला दर्ज किया गया है, जिनमें महिला के पति बदिया पुत्र लालु सिंगाड, दितू पुत्र भूरू सिंगाड, झीतरा पुत्र जामसिह भाभर, भूरू पुत्र गुला सिंगाड, धनीबाई पत्नी कालिया को आरोपित बनाया गया है। पूर्व मे हो चुकी है इस प्रकार की घटना झाबुआ मे जिले मे यह पहली घटना नहीं हैष इसके पहले 6 जुलाई को कालीदेवी थाने के अंतर्गत आने वाले अमरकोट गांव मे इस प्रकार का ममला हुआ था, जहां पर युवक ओर यवती की प्रेम प्रंसग के चलते पिटाई की गयी थी इसके पूर्व कल्याणपुरा थाने के अंतर्गत भी महिला को अपने पति को कंधे पर बैठा कर घुमाने की सजा दी जा चुकी है। हिन्दुस्थान समाचार / आलोक द्विवेदी-hindusthansamachar.in