बातें करना आसान होता है लेकिन नारी उत्थान का कार्य सहज नहीः आईजी माहेश्वरी
बातें करना आसान होता है लेकिन नारी उत्थान का कार्य सहज नहीः आईजी माहेश्वरी
मध्य-प्रदेश

बातें करना आसान होता है, लेकिन नारी उत्थान का कार्य सहज नहीः आईजी माहेश्वरी

news

सिवनी, 19 जनवरी(हि.स.)। नारी उत्थान की बात करना सरल है, लेकिन जब हम इस क्षेत्र में आगे बढ़ते है तो हमें इस बात का अहसास होता है कि यह कार्य उतना सरल नही। मंच पर बोलने वाले और सुनने वाले कुछ देर के लिए चिंतन तो करते है, लेकिन व्यस्त जीवन में किसी पीडित महिला की सेवा के लिये समय निकालना कठिन होता है। सिवनी पुलिस ने जिस तरह से नारी मुक्ति एवं नशामुक्ति को लेकर पहल की है, उसके लिये थाना प्रभारी महादेव नागोतिया निश्चित ही बधाई के पात्र है। यह बात बुधवार को आईजी अनिल माहेश्वरी ने कोतवाली में आयोजित कार्यक्रम में कही। कार्यक्रम में पुलिस अधीक्षक कुमार प्रतीक ने कहा कि पीडित महिला एवं न्यायालय के बीच पुलिस सेतु का कार्य करती है। अकसर लोगों के मन में पुलिस के प्रति भय का वातावरण बना रहता है। लेकिन इन निर्धन बच्चियों को 25 हजार रुपये की राशि देकर इनके भविष्य को संवारने का जो उपक्रम है,यह पुलिस की सार्थक पहल है और हम चाहते है कि यह निरंतर चलती रही। केवलारी विधायक राकेश पाल ने कहा कि जहां पर नारियों का सम्मान होता है, वहां पर देवता भी वास करते है। पुलिस की इस पहल की जितनी सराहना की जाये कम है। सिवनी विधायक दिनेश राय ने कहा कि थाना प्रभारी महादेव नागोतिया समाजसेवा के क्षेत्र में पुलिस की बिगड़ी हुई छवि को नया मोड़ दे रहे हैं। लखनादौन में भी इनके द्वारा जो कार्य किये गये, वह भी सबके सामने है। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के विभाग प्रचारक कृष्णकांत ने कहा कि मुझे आश्चर्य है कि अक्सर पुलिस से पहले नारियों को दूर रखा जाता था। लेकिन इस तरह का कार्यक्रम थाने में हो सकता है। जिसको लेकर मुझे बहुत खुशी हुई। और नारियों द्वारा जो कार्य किये जा रहे है। उससे जागृति आयेगी। भाजपा जिलाध्यक्ष आलोक दुबे ने कहा कि अक्सर देखा जाता है कि पीडित महिलाओं को कोई साथ नही देता,ऐसे में उसका जीवन नर्क बन जाता है, और वह परेशान रहती है। लेकिन इस तरह की गतिविधि उन्हें संबल प्रदान करती है। कार्यक्रम में 5 कन्याओं को शाल,श्रीफल, आरती एवं उपहार देकर सम्मान किया गया। कार्यक्रम के दौरान जिन महिलाओं द्वारा कच्ची शराब का व्यवसाय किया जाता था, उन उन्होंने संकल्प लिया कि वह इस व्यवसाय को बंद कर अब सिलाई का कार्य प्रारंभ करेंगी। उनकी इस भावना को देखते हुए उन्हें इस कार्य के लिये सिलाई मशीन प्रदान की गई। अनुविभागीय पुलिस अधिकारी पारूल शर्मा द्वारा नशामुक्ति को लेकर शपथ दिलाई गई। हिन्दुस्थान समाचार/रवि सनोडिया-hindusthansamachar.in