बच्चे का शव फ्रीजर में रखकर भूला अस्पताल प्रबंधन, आयोग ने लिया संज्ञान
बच्चे का शव फ्रीजर में रखकर भूला अस्पताल प्रबंधन, आयोग ने लिया संज्ञान
मध्य-प्रदेश

बच्चे का शव फ्रीजर में रखकर भूला अस्पताल प्रबंधन, आयोग ने लिया संज्ञान

news

भोपाल, 22 सितम्बर (हि.स.)। मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग ने प्रदेश के इंदौर स्थित एमवाय अस्पताल में एक बच्चे का शव फ्रीजर में रखकर भूल जाने की घटना पर संज्ञान लिया है। इस मामले में आयोग के अध्यक्ष न्यायमूर्ति नरेन्द्र कुमार जैन ने कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक तथा अधीक्षक, एम.वाय. हास्पिटल, इन्दौर से तीन सप्ताह में प्रतिवेदन मांगा है। आयोग से प्राप्त जानकारी के अनुसार इन्दौर शहर के एमवायएच अस्पताल में नरकंकाल मिलने के बाद मानवता को शर्मसार कर देने वाला एक और मामला सामने आया है। यहां तीन महीने के एक बच्चे का शव लावारिस मानकर मर्चुरी के फ्रीज़र नंबर 14 में रखकर छोड़ दिया गया और उसके बाद किसी ने सुध नहीं ली। नरकंकाल का मामला सामने आने के बाद जब सारे फ्रीज़र खोले गये, तो ये खुलासा हुआ। बताते हैं कि बच्चे को 12 सितम्बर के पहले 108 एम्बुलेंस अस्पताल लाई थी। यहां इलाज हुआ और फिर मौत हो गई। सुबह शव फ्रीज़र में रख दिया। नियम कहता है कि शव मिलने के 24 घंटे के भीतर पीएम और तीन दिन के भीतर पहचान नहीं होने पर दफना देना चाहिये। अधिकारियों के मुताबिक दस्तावेज देने में कोई मिस कम्युनिकेशन हुआ है। मामले की जांच जारी है। हिन्दुस्थान समाचार/केशव दुबे-hindusthansamachar.in