फीस नहीं मिली तो नहीं दिया वृद्धा का शव, आयोग ने लिया संज्ञान
फीस नहीं मिली तो नहीं दिया वृद्धा का शव, आयोग ने लिया संज्ञान
मध्य-प्रदेश

फीस नहीं मिली तो नहीं दिया वृद्धा का शव, आयोग ने लिया संज्ञान

news

फीस नहीं मिली तो नहीं दिया वृद्धा का शव, आयोग ने लिया संज्ञान भोपाल, 24 जुलाई (हि.स.)। मध्यप्रदेश मानव अधिकार आयोग ने इंदौर जिले में अस्पताल की फीस के लिए एक वृद्धा का शव परिजनों को नहीं सौंपे जाने पर संज्ञान लिया है। आयोग के सदस्य सरबजीतसिंह ने इस मामले में जिले के सीएमएचओ से रिपोर्ट तलब की है। मानव अधिकार आयोग द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार वृद्धा शांतिबाई जोशी को महू में हॉर्ट अटैक आया था, जिसके बाद उन्हें डॉ. अल्केश जैन ने उन्हें सीएचएल अस्पताल के डॉ. पोरवाल को रेफर किया था। यहां उपचार के दौरान बीते मंगलवार को उनकी मौत हो गई। मृतका की नवासी मोनिका जोशी का कहना है कि अस्पताल में भर्ती किए जाते समय उन्हें 1.70 लाख रुपये का पैकेज बताया था, जो उन्होंने किसी तरह जमा कर दिए थे। लेकिन वृद्धा की मौत हो जाने के बाद एक लाख रुपये और मांगे गए। जब उन्होंने इसमें असमर्थता जताई तो, उनसे कहा गया कि जब तक पैसे जमा नहीं किए जाएंगे, शांतिबाई जोशी का शव उन्हें नहीं सौंपा जाएगा। मृतका की नवासी का आरोप है कि इलाज के दौरान अस्पताल के डॉक्टरों ने लापरवाही बरती और उन्हें सही स्थिति की जानकारी नहीं दी गई। मानव अधिकार आयोग ने सीएमएचओ को निर्देश दिए हैं कि वे मृतका के परिजनों से चर्चा करें और यह बताएं कि शव उन्हें सौंपा गया है या नहीं। हिन्दुस्थान समाचार/केशव दुबे /राजू-hindusthansamachar.in