प्रदेश के विकास की नहीं, सिर्फ छिंदवाड़ा के वोटों की चिंता करते थे कमलनाथ : विष्णुदत्त शर्मा
प्रदेश के विकास की नहीं, सिर्फ छिंदवाड़ा के वोटों की चिंता करते थे कमलनाथ : विष्णुदत्त शर्मा
मध्य-प्रदेश

प्रदेश के विकास की नहीं, सिर्फ छिंदवाड़ा के वोटों की चिंता करते थे कमलनाथ : विष्णुदत्त शर्मा

news

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने कहा- सभी 27 सीटें जीतकर प्रदेश को देंगे स्थायी सरकार पन्ना, 08 सितम्बर (हि.स.)। तत्कालीन मुख्यमंत्री कमलनाथ सिर्फ छिदवाड़ा के लिये काम करते थे। कमलनाथ जी को सिर्फ छिदवाड़ा की वोटों की चिन्ता रही और यही कारण है कि उन्होंने बहुत बड़े बजट के निर्माण कार्य केवल छिदवाड़ा के लिये स्वीकृत किये। उन्हें प्रदेश के अन्य जिलों की चिन्ता नहीं थी और न उन्होंने प्रदेश के विकास में रुचि ली। तत्कालीन मुख्यमंत्री कमलनाथ पन्ना के लिए स्वीकृत एग्रीकल्चर कालेज को भी छिदवाड़ा ले गये थे, जिसे फिर से पन्ना वापस लाने के प्रयास किए जा रहे हैं। यह बात भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने मंगलवार को पन्ना में मीडिया से बातचीत में कही। विष्णुदत्त शर्मा शाहनगर, पवई, अमानगंज होते हुए मंगलवार सुबह पन्ना पहुंचे। जिले की सीमा पर पार्टी कार्यकर्ताओं ने उनका भव्य स्वागत किया। विकास के मुद्दे पर लड़ेंगे चुनाव और जीतेंगे प्रदेश अध्यक्ष शर्मा ने कहा कि कमलनाथ नाममात्र के मुख्यमंत्री थे। कांग्रेस की उस सरकार को पर्दे के पीछे से दिग्विजयसिंह चलाते रहे। कांग्रेस की सरकार ने हर वर्ग को धोखा दिया। किसानों की ऋणमाफी नहीं हुई। यही वजह है कि प्रदेश की जनता आज भी कांग्रेस से नाराज है। शर्मा ने कहा कि हम आने वाला उपचुनाव विकास के मुद्दे पर लड़ेंगे और 15 महीनों में कांग्रेस ने जो भ्रष्टाचार किया है, उसे जनता के बीच में रखेंगे। उन्होंने कहा कि हमारी विजय सुनिश्चित है। हम सभी 27 सीटें जीतेंगे और मध्यप्रदेश को एक स्थायी सरकार देंगे। अंतरकलह से गिरी कांग्रेस सरकार शर्मा ने कहा कि कांग्रेस पार्टी अंतरकलह के कारण खत्म हो रही है। प्रदेश में कांग्रेस की सरकार अपनी अंतरकलह के चलते गिरी है, इसके लिए भाजपा दोषी नहीं है। कांग्रेस की सरकार उसकी गलतियों की वजह से गिरी है। उन्होंने जनता से किए गए वादे पूरे नहीं किये। कांग्रेस की सरकार से जनता नाराज थी, पार्टी के नेता नाराज थे। यही कारण था कि सरकार से विधायक अलग हुये और सरकार गिर गई। उन्होंने कहा कि जब कमलनाथ की सरकार थी, तब उनके ही मंत्रीमंडल के मंत्री, नेता उनकी कार्यपद्धति पर प्रश्न खड़े करते रहे। शर्मा ने कहा कि कांग्रेस पार्टी के लोग अपना नेता ही नहीं चुन पा रहे हैं। कभी राहुल तो कभी सोनिया गांधी पार्टी की अध्यक्ष बन रही हैं। पन्ना का विकास मेरी प्राथमिकता शर्मा ने कहा कि पन्ना जिले का विकास मेरी प्राथमिकता है। किसी भी कीमत पर पन्ना में कृषि महाविधालय बनेगा। पन्ना में पर्यटन की संभावनायें है, हम पन्ना को पर्यटन केंद्र के रूप में विकसित करेंगे। पन्ना में ऐसी व्यवस्था की जायेगी कि जो भी व्यक्ति टाईगर रिजर्व जाये वह पन्ना से होकर जाये। उन्होंने कहा कि पन्ना की पहचान हीरा और एन.एम.डी.सी. प्रोजेक्ट है। इन दोनों में समन्वय बनाकर जिले का विकास किया जायेगा। शर्मा ने कहा कि हमारी सरकार प्रत्येक वर्ग की चिंता करने वाली सरकार है। हमारी सरकार ने शिक्षाकर्मियों व रोजगार सहायकों की चिन्ता की है, तो निश्चित ही अतिथि विद्वान व अतिथि शिक्षकों की भी चिंता हमारी सरकार करेगी। शर्मा ने कहा कि कोरोना काल में मुख्यमंत्री जी व भाजपा का संगठन ने लोगों की जिस तरह से मदद की, उसके लिये मैं संगठन के कार्यकर्ताओं का व सरकार का आभार व्यक्त करता हूं। हिन्दुस्थान समाचार/केशव दुबे-hindusthansamachar.in