पोषण महोत्सव: मुख्यमंत्री ने बालिकाओं और महिलाओं से किया संवाद
पोषण महोत्सव: मुख्यमंत्री ने बालिकाओं और महिलाओं से किया संवाद
मध्य-प्रदेश

पोषण महोत्सव: मुख्यमंत्री ने बालिकाओं और महिलाओं से किया संवाद

news

भोपाल, 17 सितम्बर (हि.स.)। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिवस के अवसर पर प्रदेश में 8 लाख बच्चों को दूध वितरण आरंभ कर राज्यव्यापी पोषण महोत्सव का शुभारंभ किया। इस अवसर पर उन्होंने प्रदेश के विभिन्न स्थानों की बालिकाओं और महिलाओं से संवाद किया। उन्होंने आंगनवाड़ी संचालन, लाड़ली लक्ष्मी योजना के संबंध में जानकारी ली। दीया सुमन ने कहा कलेक्टर बनूंगी मुख्यमंत्री ने श्योपुर जिले की पांडोला ग्राम पंचायत की कक्षा 6वीं की विद्यार्थी दीया सुमन से बात की। लाड़ली लक्ष्मी योजना की हितग्राही दीया 6वीं कक्षा में पढ़ती है। मुख्यमंत्री के दीया से पूछा कि वह बड़ी होकर क्या बनना चाहती है। दीया ने कहा कि मामा मैं तो कलेक्टर बनूंगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि सबसे बड़ी ताकत प्रयास करने में है, तुम मन से कोशिश करो सफलता अवश्य मिलेगी। खुशी से बात कर सीएम की खुशी का ठिकाना न रहा ग्वालियर जिले के डबरा विकासखंड की सहोना ग्राम पंचायत की कक्षा 9वीं की बालिका खुशी परिहार से मुख्यमंत्री ने बातचीत की। मुख्यमंत्री ने कहा कि मुझे वह समय याद आ रहा है जब रायसेन में छोटी सी बेटी को गोद में लेकर मैंने पहली एन.एस.सी. प्रदान की थी। आज यह बेटियां कक्षा 9वीं, 10वीं में पढ़ रही हैं। यह क्षण मेरे लिए व्यक्तिगत संतोष और अपार प्रसन्नता का क्षण है। खुशी ने मुख्यमंत्री से कहा कि वह बड़ी होकर डॉक्टर बनना चाहती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि जहां चाह होती है वहीं राह निकलती है। पोषण आहार का पैकेट खिलाती भी हो या पटक देती हो मुख्यमंत्री ने ग्वालियर जिले के डबरा विकासखंड की ग्राम पंचायत सहोना के आंगनवाड़ी जाने वाले बालक बलदेव यादव की माँ पूजा यादव से बात की। मुख्यमंत्री ने श्रीमती पूजा यादव से पूछा कि आंगनवाड़ी समय पर खुलती है या नहीं। उन्होंने यह भी पूछा कि आंगनवाड़ी से पोषण आहार का जो पैकेट मिलता है, वो बलदेव को खिलाती भी हो या कहीं पटक देती हो। उन्होंने कहा कि बच्चे के खान-पान में पोषण का ध्यान जरूरी है। मुख्यमंत्री ने पूजा सहित सभी बहनों को बच्चों का टीकाकरण समय पर कराने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि बच्चों और माताओं के स्वास्थ्य के लिए यह जरूरी है। 'राम-राम मामा' बड़वानी जिले के पाटी विकासखंड की ग्राम पंचायत ओसाड़ा के आशीष सस्ते की माँ राहाबाई ने मुख्यमंत्री को स्क्रीन पर देखते से ही कहा 'राम-राम मामा'। मुख्यमंत्री ने राहाबाई से आशीष के खान-पान की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि अब आंगनवाड़ी में बच्चों के लिए दूध पाउडर देना भी शुरू कर रहे हैं। कोंदो-कुटकी की पहचान देश-दुनिया में बना दी मुख्यमंत्री ने तेजस्विनी समूह की रेखा पन्द्राम से कहा कि तुमने तो कोंदो-कुटकी की पहचान देश-दुनिया में बना दी। डिंडौरी के स्व-सहायता समूह से बातचीत के दौरान रेखा पन्द्राम ने बताया कि कोंदो कुटकी से बने बर्फी, बिस्किट आदि की बिक्री मध्यप्रदेश पर्यटन के माध्यम से हो रही है। एक यूनिट को एक माह में 20 से 25 हजार रुपये का शुद्ध लाभ होता है। मुख्यमंत्री ने प्रदेश के अन्य स्व-सहायता समूहों को इससे प्रेरणा लेकर स्थानीय खाद्य सामग्री से पौष्टिक आहार बनाने के लिए पहल करने को कहा। आठ लाख बच्चों को मिलेगा दूध कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के 8 लाख कुपोषित अथवा कम पोषित बच्चों के लिए मीठे दूध पाउडर का वितरण प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के जन्मदिवस से आरंभ किया जा रहा है। प्रतिदिन दूध के सेवन से यह कुपोषित बच्चे जल्द ही सुपोषित होंगे। मुख्यमंत्री ने किया 601 आंगनवाड़ी केन्द्रों का लोकार्पण मुख्यमंत्री ने कोरोना काल में विभिन्न गांवों में आए प्रवासी मजदूरों द्वारा निर्मित 601 आंगनवाड़ी भवनों का सिंगल क्लिक से लोकार्पण भी किया। मुख्यमंत्री ने दिलाया पोषण संकल्प मुख्यमंत्री ने पोषण रणनीति का प्रभावी क्रियान्वयन कर प्रदेश को एनीमिया व कुपोषण से मुक्त करा कर विकास की ओर अग्रसर करने तथा सुपोषित प्रदेश बनाने के लिए पोषण संकल्प दिलाया। हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश-hindusthansamachar.in