निवाड़ी : बोरेवेल में फंसे बच्चे को बचाने एनडीआरफ टीम ने 43 फीट की खुदाई, मासूम की आवाज आना हुई बंद
निवाड़ी : बोरेवेल में फंसे बच्चे को बचाने एनडीआरफ टीम ने 43 फीट की खुदाई, मासूम की आवाज आना हुई बंद
मध्य-प्रदेश

निवाड़ी : बोरेवेल में फंसे बच्चे को बचाने एनडीआरफ टीम ने 43 फीट की खुदाई, मासूम की आवाज आना हुई बंद

news

निवाड़ी, 05 नवम्बर (हि.स.)। जिले में बुधवार दोपहर एक चार साल का मासूम बोरवेल में गिर गया। बच्चे के बोरवेल में गिरने की सूचना मिलते ही मौके पर पुलिस और प्रशासन पहुंच गया और बच्चे को बचाने का प्रयास शुरू किया गया था, जिसके बाद देर रात तक लखनऊ से राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) को भी बुला लिया गया। पांच मशीनों से लगातार खुदाई की जा रही है। फिलहाल गुरुवार सुबह तक 45 फीट खुदाई हो सकी है। बोरवेल में लगातार स्वास्थ्य टीम द्वारा ऑक्सीजन की पूर्ति की जा रही है, बच्चा अचेत अवस्था में पहुंच गया है, जिसके चलते अब उसकी आवाज आना बंद हो गई है। फिलहाल नाइट विजन कैमरे की टीम भी बोर वेल में लगातार बच्चे पर निगरानी कर रही है, साथ ही शीघ्रता से खुदाई का कार्य चल रहा है। प्रशासन के मुताबिक 200 फीट 9 इंच का बोर है, लेकिन बच्चा कैमरों के अनुसार 70 फीट पर नजर आ रहा है। उल्लेखनीय है कि घटना बारहो बुजुर्ग ग्राम पंचायत अंतर्गत पृथ्वीपुर थाना क्षेत्र के सैतपुरा गांव की है। यहां हरकिशन कुशवाहा का चार वर्षीय बेटा प्रहलाद घर के बाहर खेल रहा था। घर के पास ही कुछ दिनों पहले 200 फिट गहरा बोर खुदा था जो कि खुला था। परिजनों ने बच्चों को बोर के पास जाने से मना किया था। मासूम के पिता हरकिशन ने बताया कि वह बुधवार को बोर में केसिंग डलवाने के लिए खेत पर गए थे। साथ में उनका बालक प्रहलाद भी गया था और वह वहीं खेलने लगा। हम लोग केसिंग डलवाने के लिए पाइप ला रहे थे। इसी दौरान बालक बोर के पास चला गया और उसमें जा गिरा। बच्चे को बोर में गिरता देख हम सभी परिजनों और ग्रामीणों ने दौड़ लगाई। ग्रामीणों ने बच्चे को बाहर निकालने का प्रयास भी किया, लेकिन सफलता नहीं मिली। इसके बाद मैंने डायल 100 को फोन लगाया। डायल 100 आने के बाद थाने में सूचना दी गई। सूचना मिलते ही पुलिस और प्रशासनिक अफसर भी मौके पर पहुंच गए थे। बच्चे के बोर में गिरने की खबर लगते ही पूरे गांव में हड़कंप मच गया। हिन्दुस्थान समाचार/डॉ. मयंक चतुर्वेदी /रामानुज-hindusthansamachar.in