निगम का फर्जी टेंडर घोटाला, आरोपितों की जमानत खारिज

निगम का फर्जी टेंडर घोटाला, आरोपितों की जमानत खारिज
निगम का फर्जी टेंडर घोटाला, आरोपितों की जमानत खारिज

ग्वालियर, 25 जुलाई (हि.स.)।नगर निगम के पार्क और विद्युत विभाग ने मिलकर जिस फर्जी टेंडर से करीब 3 लाख रुपये का घोटाला किया था, उसके दो आरोपितों जितेन्द्र सिंह और राजेश सिंह सेंगर की जमानत न्यायालय ने नामंजूर कर दी है। आरोपितों ने ठेकेदार महेन्द्र गुप्ता के नाम से टेंडर लिया था और उसका भुगतान भी ले लिया। जब मामले का खुलासा हुआ तो मामले की जांच कराई तो धोखाधड़ी का खुलासा हुआ और महेन्द्र गुप्ता की शिकायत पर लोकायुक्त भोपाल ने एसपी ग्वालियर से जांच कराने के लिए कहा था, जिसमें आरोप सिद्ध हुए थे और आरोपितों ने अग्रिम जमानत की याचिका लगाई थी। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश ग्वालियर ने शनिवार को अग्रिम जमानत याचिका खारिज करते हुए कहा कि आवेदक अपराध के मुख्य आरोपित हैं। उनका अपराध गंभीर है और अभी विवेचना पूर्ण नहीं हुई है। इसलिए उनकी जमानत याचिका निरस्त की जाती है। निगम के पार्क विभाग ने विद्युत विभाग के साथ मिलकर फर्जी टेंडर के आधार पर कार्य कराकर भुगतान किए जाने की शिकायत प्राप्त होने पर उनके द्वारा उक्त जांच पुलिस अधीक्षक ग्वालियर को भेजे जाने पर मुनीष राजौरिया उप पुलिस अधीक्षक द्वारा जांच की गई। जिसमें पाया गया कि लिपिक दीपक सोनी ने महेन्द्र गुप्ता के नाम से टेंडर प्रदान करने के लिए रसीद काटी थी, लेकिन उनके हस्ताक्षर नहीं कराए। दीपक ने पार्क प्रभारी मुकेश बंसल एवं सुशील कटारे के साथ लिफाफा खोलने के लिए प्रस्तुत किया। इसके बाद चार्ट तैयार कर कार्य स्वीकृति के लिए मुकेश बंसल के माध्यम से भेजा गया एवं कार्य कराए जाने के उपरांत ठेकेदार महेन्द्र गुप्ता के नाम से बिल राजेश सेंगर एवं जितेन्द्र सिंह जादौन द्वारा भुगतान के लिए प्रस्तुत किए गए। बिल महेन्द्र गुप्ता के नाम से नहीं थे। इस मामले में निगमायुक्त से जानकारी ली तो पता चला कि नस्ती राजू नागर ने पेश की थी। टेंडर में गड़बड़ी का मामला पकड़ में आने पर राजू नागर के खिलाफ विभागीय जांच प्रारंभ की गई। वहीं पता चला कि बिल की फाइल तत्कालीन सहायक लेखा अधिकारी विनोद शर्मा ने भेजी थी और मुकेश बंसल ने अग्रेषित की थी। अपर आयुक्त आरके श्रीवास्तव ने भी इस फर्जी फाइल का परीक्षण किए बिना चेक जारी करने के आदेश दे दिए। हिन्दुस्थान समाचार / श्याम / मुकेश-hindusthansamachar.in

अन्य खबरें

No stories found.