मध्य-प्रदेश

दो दिन का टोटल लॉकडाउन आज से, बाजार में उमड़ी भीड़

news

गुना, 31 जुलाई (हि.स.)। कोरोना संक्रमण के चलते शनिवार और रविवार को जिले में टोटल लॉक डाउन रहेगा। इस लॉक डाउन में बाजार भी पूरी तरह बंद रहेगा। शनिवार को ईद का त्यौहार है, सोमवार को रक्षा बंधन है। इन त्यौहारों की तैयारियों के चलते खरीदारी करने वालों की भीड़ शुक्रवार को सुबह से ही अपने-अपने घरों से निकल आई। यह भीड़ गुना के मुख्य बाजारों में उमड़ी, भीड़ और सडक़ पर लगी दुकानें और उनके खड़े वाहनों ने दिन में कई बार वहां की सडक़ को जाम कर दिया। आधे घंटे से अधिक समय तक जाम की स्थिति बनी रही। लेकिन उनको हटाने न तो वहां यातायात पुलिस नजर आई और न ही अन्य कोई। बाजार में कोरोना का डर खरीददारी करने आए काफी संख्या में लोगों में नहीं दिखा, न उनके चेहरे पर मास्क था और न वे सोशल डिस्टेंस का पालन कर रहे थे। कई दुकानदार भी बगैर मास्क लगाए ग्राहकों को सामान देते दिखाई दिए। हाट रोड पर राखियों का बाजार सडक़ के दोनों किनारे लगा रहा। दो दिन का लॉक डाउन अभी भी रहेगा कोरोना संक्रमण काल में दो दिन का लॉक डाउन गुना शहर में शनिवार और रविवार को रखे जाने का निर्णय कुछ दिन पूर्व जिला क्राइसिस समिति की बैठक में लिया गया था। पिछले शनिवार और रविवार को टोटल लॉक डाउन का जनता ने स्वत: ही पालन किया, अपने घरों में कैद रहे, जिससे टोटल लॉक डाउन बगैर सख्ती के साथ और जनता के सहयोग से सफल हो गया था। जनता ने कलेक्टर को इसका श्रेय दिया था लेकिन कलेक्टर ने टोटल लॉक डाउन के आदेश का पूरी तरह पालन कर सफल बनाने पर जनता का धन्यवाद ज्ञापित किया था। यह टोटल लॉक डाउन शनिवार और रविवार को रहेगा या नहीं, इसको लेकर तरह-तरह की चर्चाएं बनी रहीं। लेकिन गुना शहर में टोटल लॉक डाउन इस बार भी रहेगा, इसकी पुष्टि कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम ने की। ऐसा दिखा नजारा जब गुना शहर में सिटी कोतवाली से पैदल चलते हुए रपटे व हाट रोड होते हुए हनुमान चौराहे तक को देखा तो कोरोना संक्रमण काल में एक साथ पड़ रहे दो त्यौहारों की भीड़ हर सडक़ पर दिखाई दी। कोतवाली की दीवार से सटकर एक नहीं दर्जनों दुकानें सजी हुई थीं। आगे बढ़े तो सुगन चौराहे से रपटे तक 40 मिनट से अधिक का समय लग गया। इसकी वजह ये थी कि सदर बाजार में प्रवेश करते ही दुकानों के सामने अस्थाई दुकानें लगी हुई थीं, जिन पर महिलाओं के उपयोग का सामान और राखी की दुकानें सजी हुई थीं। उन पर महिलाओं की भीड़ लगी थी। यहां के दुकानदारों के वाहन बापू पार्किंग की जगह अपनी-अपनी दुकानों के सामने लगे हुए थे। तलघरों में पार्किँग न कराकर उनमें व्यवसायिक गतिविधियां संचालित होते देखी गईं। सदर बाजार में तो एक नहीं तीन-चार जगह दिन में दर्जनों बार 15 से 20 मिनट तक जाम लगते रहे। इसकी वजह एक तरफ दुकानदारों के वाहन, दूसरी तरफ अस्थाई दुकानें रही। सदर बाजार की सडक़ बमुश्किल पन्द्रह फुट की भी नजर नहीं आ रही थी। इसी सडक़ पर ठेले और ऑटो वालों की वजह से जाम लगते रहे।इसमें फंसने के बाद आगे बढ़े तो वहां भी जाम लगा हुआ दिखाई दिया। कुल मिलाकर वाहन लेकर तो दूर पैदल भी इस जाम से निकलकर रपटे तक पहुंचना मुश्किल लग रहा था। यहां कपड़े, सोने-चांदी, महिला सौन्दर्य की सामग्री की दुकानों पर काफी भीड़ देखी गई। एक यातायात पुलिस कर्मी पहुंचा उसने जाम को खुलवाने का प्रयास किया, लेकिन वो भी सफल नहीं हो पाया। मजेदार बात ये है कि त्यौहारों पर भीड़ को देखते हुए और यातायात व्यवस्थित बना रहे, आने-जाने वालों की सुरक्षा बनी रहे, इसके लिए पुलिस विभाग ने कोई प्लानिंग नहीं की थी। जिससे मुख्य बाजार में अव्यवस्था देखने को मिली। इससे ज्यादा भीड़ हाट रोड पर रही जब जाम में कई बार फंसते हुए हाट रोड पहुंचे तो वहां सदर बाजार, सराफा से अधिक ग्राहकों की भीड़ दिखाई दी। हाट रोड पर रपटे से लेकर हनुमान चौराहे तक डिवाइडर के दोनों और राखी, नारियल, कपड़े, फल आदि की फुटपाथ दुकानें सजी हुई थीं। ठेले के रूप में लगी दुकानों पर ग्राहकों की भीड़ बगैर सोशल डिस्टेंस के दिखी और यहां सामान बेचने वालों के चेहरों पर मास्क दिखाई नहीं दिए। जबकि यहां से कुछ दूरी पर ही नगर पालिका का कार्यालय है। बाजार में मास्क लगाने और सोशल डिस्टेंस का पालन कराने के लिए कोई भी अधिकारी या टीम नजर नहीं आई। जहां नजर डालो वहां दिखी भीड़ गुना शहर के चाहें बाजार हो, मुख्य सडक़ हो या गुना का बस स्टैण्ड। हर जगह लोगों की भीड़ थी। जाम की स्थिति बाजारों में नहीं जय स्तम्भ चौराहे और हनुमान चौराहे पर भी लगते देखी गई। इसकी वजह ये रही हनुमान चौराहे पर लगे सिंग्नल बंद थे। यातायात व्यवस्था बनी रहे, इसके लिए एक यातायात पुलिस कर्मी चौराहे पर अपनी ड्यूटी देते हुए दिख रहा था। लेकिन जल्दी जाने की होड़ में सिंग्नल बंद होने पर एक-दूसरे से आगे निकलने की चाहत में कुछ वाहन आपस में टकराते हुए भी दिखाई दिए। भैया बहुत दिनों बाद दिखा ऐसा बाजार सदर बाजार और हाट रोड के दुकानदारों से बाजार में भीड़ आदि को लेकर पूछा गया तो उनका कहना था कि आज कुछ ग्राहकी हो रही है। वैसे तो तीन-चार महीने में लॉक डाउन के चलते हमारा व्यापार तो पूरी तरह चौपट हो गया था। आर्थिंक तंगी भी आ गई थी। कोरोना का डर तो है लेकिन व्यापार भी जरूरी है। हम तो लोगों से मास्क लगाने और सोशल डिस्टेंस का पालन करने की कह रहे हैं। हिन्दुस्थान समाचार / अभिषेक/केशव-hindusthansamachar.in