कैलारस क्षेत्र में आएगा दो हजार करोड़ रुपये का डीआरडीओ का प्रोजेक्टः केन्द्रीय मंत्री तोमर
कैलारस क्षेत्र में आएगा दो हजार करोड़ रुपये का डीआरडीओ का प्रोजेक्टः केन्द्रीय मंत्री तोमर
मध्य-प्रदेश

कैलारस क्षेत्र में आएगा दो हजार करोड़ रुपये का डीआरडीओ का प्रोजेक्टः केन्द्रीय मंत्री तोमर

news

मुख्यमंत्री बोले-विकास और सर्वहारा वर्ग के उत्थान के लिये सरकार कोई कोर कसर नहीं छोड़ेगी भोपाल, 12 सितम्बर (हि.स.)। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को मुरैना जिले के कैलारस में केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर और राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ 170 करोड़ 55 लाख रुये की लागत से 23 निर्माण कार्यो का भूमिपूजन और नवनिर्माण विकास कार्यो का लोकार्पण किया। इस अवसर पर केन्द्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि कैलारस क्षेत्र में भारत सरकार के रक्षा मंत्रालय द्वारा 2 हजार करोड़ रुपये का प्रोजेक्ट लागू किया जायेगा। इस प्रोजेक्ट से यहां के हजारों लोंगो को रोजगार मिलेगा। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश के विकास और सर्वहारा वर्ग के उत्थान के लिये सरकार कोई कोर कसर नहीं छोड़ेगी। आज मुरैना, छैरा और कैलारस में करोड़ों रुपयों के विकास कार्यो के शिलायान्स तथा लोकार्पण किये है, जरूरतमंदों को सरकार की विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं के तहत लाभान्वित भी किया है। वहीं, राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि हमारे प्रदेश के जननायक मुख्यमंत्री चौहान खाली हाथ नहीं आये हैं। उन्होंने कहा कि आज ही जौरा, कैलारस में 170 करोड़ रुपये के विकास कार्यो का भूमिपूजन और लोकार्पण किया है। इन विकास कार्यो से यहां की जनता की सभी असुविधायें दूर होंगी। वे खुशहाल होंगे। मुख्यमंत्री ने शनिवार शाम को आमसभा में कहा कि केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर जौरा, कैलारस के विकास के लिये 2 हजार करोड़ रुपये का डी.आर.डी.ओ. का प्रोजेक्ट और साढ़े 8 हजार करोड़ रूपये का चंबल अटल प्रोग्रेस-वे लेकर आये हैं। उन्होंने कहा कि क्षेत्र के विकास के लिये कोई कसर नहीं छोड़ी जायेगी। गरीब बेटा-बेटियों को उच्च शिक्षा के लिये सरकार फीस भरेगी, उच्च अंक लाने वाले विद्यार्थियों को लैपटॉप देने की योजना, बुजुर्गो को तीर्थ स्थलों पर भेजने के लिये मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना की भी पुन: शुरूआत होगी। उन्होंने कहा कि पूर्व सरकार ने संबल योजना बंद कर दी थी, पुन: प्रारंभ कर दिया गया है। केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि चाहे नेपरी का पुल हो या सिकरौदा का पुल हमने सभी पुल बनवाये हैं। नहर के किनारे 110 करोड़ रुपये की सीमेन्ट कंक्रीट सड़क के साथ अनेक काम करके प्रदेश सरकार ने अपने वायदे पूरे किये। अटारघाट, पिनाहट घाट और उसैदघाट के पुलों का निर्माण भी पूरा किया जा रहा है। राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि चंबल की जनता स्वाभिमानी है, उसके स्वाभिमान को कोई चोट पहुंचाता है तो उसे सबक सिखाती है। पूर्व सरकार ने भी 15 महीने बल्लभ भवन में बैठकर काम किया और जनता की सुध नहीं ली। पूर्व सरकार विकास के नाम पर बात करने को तैयार नहीं थी। सिंधिया परिवार ने हमेशा चंबल-ग्वालियर के लोंगो के आत्म सम्मान के लिये काम किया है। उन्होंने कहा कि पूर्व सरकार ने अपने 15 माह के कार्यकाल प्रधानमंत्री फसल बीमा की किस्त तक नहीं भरी, जबकि मुख्यमंत्री चौहान ने आते ही 2990 करोड़ रुपये किसानों के हित में जमा कराये। इस अवसर पर मुख्यमंत्री, केन्द्रीय मंत्री तोमर और राज्यसभा सांसद सिंधिया ने संबल योजना के तहत 5 लोंगो को 12 लाख अनुग्रह सहायता राशि, आजीविका मिशन के तहत सीसीएल के अनुसार 2 हितग्राहियों को 51 लाख रुपये, आर.एफ सूची के अनुसार 3 हितग्राहियों को 38 हजार रुपये, पथ विक्रेता योजना के तहत 5 लोंगो को 60 हजार रुपये के चैक भेंट किये। दिव्यांग 2 व्यक्तियों को ट्रायसिकल और 3 बच्चियों की माताओं को लाड़ली लक्ष्मी योजना के तहत लाभान्वित किया गया है। हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश-hindusthansamachar.in