केवई नदी से बुझेगी बिजुरी नगर की प्यास, जलापूर्ति परियोजना को परिषद की सहमति
केवई नदी से बुझेगी बिजुरी नगर की प्यास, जलापूर्ति परियोजना को परिषद की सहमति
मध्य-प्रदेश

केवई नदी से बुझेगी बिजुरी नगर की प्यास, जलापूर्ति परियोजना को परिषद की सहमति

news

अनूपपुर, 20 दिसम्बर (हि.स.)। बिजुरी नगरपालिका अब शहर के लोगों की प्यास केवई नदी के पानी से बुझाएगी। इसके लिए सर्वेक्षण और डिजाइन का कार्य कराया जा रहा है। सर्वेक्षण कार्य के 15 दिनों के अदंर ही नपा द्वारा टेंडर जारी किए जाने की प्रक्रिया अपनाई जाएगी। जिसमें प्राक्कलन के अनुसार टेंडर के माध्यम से पाइपलाइन बिछाने और पानी टंकी का निर्माण कराया जाएगा। बिजुरी नपाधिकारियों का कहना है कि इस परियोजना से नगर में स्थायी जलापूर्ति की व्यवस्था को बनाया जा सकेगा। वर्तमान में बिजुरी भूमिगत खदान और बहेराबांध खदान से भगता भवनिया फिल्टर प्लांट द्वारा नगर में जलापूर्ति होती है। लेकिन इसमें पूरे नगर को पानी पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध नहीं हो पाता है। इसके लिए नपा टैंकर के माध्यम से लगभग 3-4 वार्डो में जलापूर्ति करती है। बताया जाता है कि नपा द्वारा मुख्यमंत्री शहरी पेयजल योजना के तहत वर्ष 2016 मे 16 करोड़ की लागत से न्यूडोला गांव के बंद खुली खदान से जलापूर्ति की योजना बनाई थी। इसके लिए रूफ एंड ब्रिज लिमिटेड कंपनी के ठेकेदार द्वारा पाइपलाइन बिछाने के साथ साथ कोरजा वार्ड क्रमांक 13 में एक पानी टंकी का भी निर्माण कराया था। लेकिन अब यह परियोजना ग्रामीणों के विरोध में बंद हो गई है। ग्रामीणों ने जताया विरोध, कहा प्यासे रह जाएंगे बिजुरी नगरपालिका द्वारा न्यूडोला गांव के बंद खुली खदान में बिछाए गए पाइप लाइन पर आपत्ति जताते हुए विरोध किया। ग्रामीणों ने कहा इससे न्यूडोला के ग्रामीण प्यासे ही रह जाएंगे। बारिश और ठंडी के मौसम में बंद खदान में भरे पानी से किसी तरह गुजर हो जाएगा, लेकिन गर्मी के दिनों में कम पानी और बिजुरी नगर के लिए होने वाली जलापूर्ति में यह पानी न्यूडोला के ग्रामीणों के लिए अपर्याप्त होगा। विरोध के बाद ठेकेदार ने कार्य रोक दिया। इसके बाद परिषद ने बैठक बुला केवई नदी से जलापूर्ति पर अपनी सहमति प्रदान की। बताया जाता है कि केवईनदी से बिजुरी नगरपालिका की दूरी लगभग 14 किलोमीटर होगी। जहां अब पाइप लाइन बिछाने के साथ पानी टंकी निर्माण कराते हुए नगर तक पानी पहुंचाने का कार्य किया जाएगा। इससे पूर्व भी परिषद ने केवई नदी से नगर में जलापूर्ति पर अपनी राय रखी थी। लेकिन आनन फानन में नगरीय प्रशासक ने न्यूडोला गांव स्थित बंद पड़ी खुली खदान से पानी लेने की योजना बना डाली। नगरीय क्षेत्र का वार्ड क्रमांक 2 से 7 तक कॉलरी अधिकारियों सहित श्रमिक आवासीय क्षेत्र हैं, जहां बिजुरी भूमिगत खदान के पानी से जलापूर्ति कराई जाती है। शेष 8,9,10,11,12 ,15 वार्ड में टैंकर के माध्यम से तथा 13,14 वार्ड कोरजा खदान के सीधी जलापूर्ति योजना से पानी का उपयोग कर रहे हैं। बिजुरी नपा उपाध्यक्ष सतीश शर्मा ने बताया कि पूर्व में डोला गांव से पानी लाने की योजना पर कार्य कराया गया था, लेकिन ग्रामीणों की आपत्ति के बाद अब केवई नदी से पाइपलाइन बिछाकर स्थायी जलापूर्ति की योजना बनाई गई है। जल्द टेंडर की प्रक्रिया अपनाई जाएगी। हिन्दुस्थान समाचार/ राजेश शुक्ला-hindusthansamachar.in