किसान संघ की मांग, डोड़ाचूरा को एनडीपीएस एक्ट से मुक्त किया जाए
किसान संघ की मांग, डोड़ाचूरा को एनडीपीएस एक्ट से मुक्त किया जाए
मध्य-प्रदेश

किसान संघ की मांग, डोड़ाचूरा को एनडीपीएस एक्ट से मुक्त किया जाए

news

मन्दसौर, 15 सितम्बर (हि.स.)। भारतीय किसान संघ द्वारा राष्ट्रव्यापी आव्हान के तहत पूरे देश में किसानों की मांगों के संबंध में ज्ञापन दिये गये। इसी तारतम्य में भारतीय किसान संघ जिला इकाई मंदसौर द्वारा मंगलवार को जिले की चारों तहसीलों में प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री के नाम एक ज्ञापन तहसीलदार को दिये गये। ज्ञापन में केन्द्र व राज्य सरकार जो मांगे की गई, उनमें मुख्य रूप से अफीम नीति 25 सितम्बर 2020 से पहले तय की जाये, अफीम पट्टा वितरण पर मार्फीन पद्धति समाप्त की जाये। 54 किलो हेक्टर की औसत के मान से पट्टे किसानों को वितरित किये जाये। 1996 से जिन किसानों के अफीम पट्टे रोगग्रस्त व शीतलहर से जो फसल खराब हो गई थी उन किसानों को भी पट्टे दिये जाये। प्रत्येक किसान को दस आरी के पट्टे ही दिए जाए। फसेल पैदा करने पर बीज, खाद, मजदूर, रखरखाव महंगा हो गया है इसलिये अफीम के भाव 10,000 रुपये प्रति किलो किये जाये। डोड़ाचूरी में 0.02 पाईंट अफीम रहती है याने नहीं के बराबर। यह जीवन रक्षक औषधि के रूप में काम आती है इसलिये केन्द्र सरकार डोड़ाचूरी को एनडीपीएस एक्ट से मुक्त किया जाए। प्रधानमंत्री फसल बीमा योजनाओं में खेत को इकाई माना जाए। कृषि कार्य में लगने वाले सभी यंत्रों एवं रासायनिक दवाईयां, बीज पर जीएसटी की दर न्यूनतम की जाए। बैंकों द्वारा कृषि लोन एवं केसीसी देने की प्रक्रिया को पारदर्शी बनाकर ऑनलाईन किया जाये। पर्याप्त दस्तावेज के बाद भी किसान को परेशान करने पर जवाबदेही निश्चित की जाये। सभी जिलों में कृषि महाविद्यालय खोले जाये छोटी कक्षाओं में कृषि विज्ञान की पढ़ाई कराई जाये। बलराम तालाब योजना चालू की जाए, किसानों को 14 घंटे थ्री फेस बिजली उपलब्ध कराई जाये। जले हुए ट्रांसफार्मर बदलने के लिये एंबुलंेस सेवा शुरू कर 24 घण्टे में ट्रांसफार्मर बदले जाये। हिन्दुस्थान समाचार, अशोक झलौया-hindusthansamachar.in