मध्य-प्रदेश

कलेक्टर ने की कृषक उत्पादक संगठन निर्माण एवं संवर्धन योजना की समीक्षा

news

योजना को सफल बनाकर बेहतर क्रियान्वयन के निर्देश उज्जैन, 11 सितम्बर (हि.स.)। कलेक्टर आशीष सिंह ने शुक्रवार को कृषक उत्पादक संगठन निर्माण एवं संवर्धन योजना की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे आपसी तालमेल से केन्द्र पोषित योजना को सफल बनाकर धरातल पर बेहतर क्रियान्वयन करें। कलेक्टर ने मैदानी क्षेत्रों में कार्य करने वाले किसान उत्पादक संगठनों के पदाधिकारियों से कहा कि वे योजना के अंतर्गत किसानों को पर्याप्त बाजार और ऋण लिंकेज की सुविधा प्रदान करते हुए उन्हें आर्थिक रूप से निर्भर बनाने में मदद करें। शासन संगठनों को हरसंभव मदद करेगा। कलेक्टर आशीष सिंह ने कृषि विभाग के साथ-साथ पशु चिकित्सा, मत्स्य, सहकारिता, उद्यानिकी आदि विभागों के अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे भी अपने-अपने स्तर पर जिले में किसान उत्पादक संगठनों को तैयार कर उन्हें अधिक से अधिक मदद करने का प्रयास किया जाये। बैठक में बडऩगर के जयसिंह आंजना, राजेश धाकड़, खाचरौद के गोवर्धनलाल धाकड़, प्रहलादसिंह आंजना, घट्टिया के जितेन्द्र कुमावत, जीतू पटेल, तराना के शिवचरण शर्मा, नीतेश पाटीदार एवं तंवरसिंह चौहान ने कृषक उत्पादक संगठन के निर्माण में किये जा रहे कार्यों के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि उनके द्वारा कृषकों की बैठकें लेकर योजना के बारे में जानकारी दी जा रही है। कलेक्टर ने सम्बन्धितों को निर्देश दिये कि वे कृषकों का संगठन तैयार कर अपना पंजीयन करायें। बैठक में नाबार्ड के अधिकारी ने केन्द्रपोषित योजना के बारे में जानकारी से अवगत कराया। बैठक में कृषि उप संचालक सीएल केवड़ा ने योजना के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय भारत सरकार के माध्यम से भारत सरकार ने किसान उत्पादक संगठनों का गठन और संवर्धन योजना प्रारम्भ की है। योजना के तहत किसान उत्पादक संगठनों का जिले में गठन करने की कार्यवाही की जा रही है। जिले के प्रत्येक विकास खण्ड में एफपीओ बनाया जा रहा है। योजना के अन्तर्गत किसान उत्पादक संगठनों का पंजीयन सहकारिता अधिनियम के अन्तर्गत किया जायेगा। भारत सरकार द्वारा लघु कृषक कृषि व्यवसाय, राष्ट्रीय सहकारी विकास निगम एवं राष्ट्रीय कृषि ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) कार्यान्वयन एजेन्सी नियुक्त की गई है। योजना के अन्तर्गत कृषक उत्पादक संगठनों को पर्याप्त बाजार और ऋण लिंकेज की सुविधा प्रदान करते हुए आर्थिक रूप से टिकाऊ कृषक उत्पादक संगठनों को विकसित करने के लिये पर्याप्त हैंड होल्डिंग और पेशेवर सहायता प्रदान करते हुए कृषक उत्पादक संगठनों का गठन किया जा रहा है। बैठक में संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे। हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश-hindusthansamachar.in