कलेक्टर ने किया कृषि कार्यालय का औचक निरीक्षण
कलेक्टर ने किया कृषि कार्यालय का औचक निरीक्षण
मध्य-प्रदेश

कलेक्टर ने किया कृषि कार्यालय का औचक निरीक्षण

news

विदिशा, 20 दिसम्बर (हि.स.)। जिले में सीएम हेल्पलाइन के तहत दर्ज आवेदनों का निराकरण विशेष अभियान के रूप में क्रियान्वित किया जा रहा है। कलेक्टर डॉ पंकज जैन स्वयं निराकरण कार्यों की मानिटरिंग कर रहे हैं। इसी क्रम में कलेक्टर डॉ. जैन ने रविवार को कृषि विभाग के उप संचालक कार्यालय में पहुंचकर सीएम हेल्पलाइन के लंबित आवेदनों के निराकरण कार्यो की जानकारी ली। जिन आवेदनों का निराकरण जिला स्तर पर संभव नहीं है, उनके संबंध में आवश्यक मार्गदर्शन देते हुए फोर्स क्लोज के संबंध में आवश्यक कार्यवाही वरिष्ठ अधिकारियों से कराए जाने के निर्देश प्रभारी उप संचालक को दिए। डेढ हजार से अधिक आवेदन लंबित गौरतलब है कि सीएम हेल्पलाइन के तहत कुल एक हजार 589 आवेदन लंबित हैं, जिसमें फसल बीमा संबंधी एक हजार 402, ऋण माफी के 94 तथा कृषि विभाग से संबंधित अन्य 93 आवेदन लंबित है। उपरोक्त आवेदनों के निराकरण के संबंध में आवश्यक कार्यवाही कर निराकृत करने के निर्देश कलेक्टर द्वारा संबंधितों को दिए गए। शोकॉज नोटिस कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग के उप संचालक कार्यालय का औचक निरीक्षण किया। कार्यालय में प्रभारियों द्वारा की गई अव्यवस्थाओं पर असंतोष जाहिर करते हुए संबंधितों को शोकॉज नोटिस जारी करने के निर्देश प्रभारी उप संचालक को दिए। कलेक्टर डॉ जैन ने कृषि विभाग की भण्डार कक्ष का जायजा लिया और यहां अनावश्यक सामग्री का अब तक डिस्पोजल नहीं करने तथा गंदगी पाए जाने पर स्टोर प्रभारी सहायक ग्रेड तीन राजेन्द्र पवार को शोकॉज नोटिस जारी करने के निर्देश दिए। कलेक्टर डॉ जैन ने किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग के उप संचालक कार्यालय की स्थापना शाखा सहित अन्य शाखाओं का भी निरीक्षण किया है। रिकार्ड सुव्यवस्थित रूप से संधारित कर नियत स्थलों पर नही रखने के फलस्वरूप जिन तीन कर्मचारियों को शोकॉज नोटिस जारी करने के निर्देश दिए, उनमें सहायक सांख्यिकी अधिकारी ओपी निगम, लेखापाल दीपक दुबे तथा स्थापना शाखा प्रभारी सहायक ग्रेड तीन नीला सिंह शामिल है। हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश-hindusthansamachar.in