कमलनाथ बताएं, ग्वालियर चंबल क्षेत्र की पीठ में छुरा क्यों घोंपा : विष्णुदत्त शर्मा
कमलनाथ बताएं, ग्वालियर चंबल क्षेत्र की पीठ में छुरा क्यों घोंपा : विष्णुदत्त शर्मा
मध्य-प्रदेश

कमलनाथ बताएं, ग्वालियर चंबल क्षेत्र की पीठ में छुरा क्यों घोंपा : विष्णुदत्त शर्मा

news

ग्वालियर, 16 सितम्बर (हि.स.)। कमलनाथ और दिग्विजय सिंह ने ग्वालियर-चंबल क्षेत्र की जनता से झूठ बोला है, क्षेत्र के साथ अन्याय किया है। प्रदेश में कांग्रेस की सरकार ग्वालियर-चंबल क्षेत्र के दम पर ही बनी थी और जनता सिंधिया जी को मुख्यमंत्री देखना चाहती थी। लेकिन दिग्विजय-कमलनाथ ने इस क्षेत्र के साथ छल किया और कमलनाथ मुख्यमंत्री बन गए। अब इस क्षेत्र की जनता पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ से पूछना चाहती है कि उन्होंने क्यों इस क्षेत्र के विकास और सम्मान की पीठ में छुरा घोंपा? यह बात प्रदेश भाजपा अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा ने बुधवार को मीडिया से बातचीत में कही। ग्वालियर को क्या दिया, बताएं कमलनाथ शर्मा ने कहा कि कमलनाथ ने इस क्षेत्र के विकास के लिए कुछ नहीं किया। उन्होंने चंबल प्रोग्रेस वे को रद्द कर दिया था, जिसकी पहल भारतीय जनता पार्टी की सरकार ने की थी। अन्य परियोजनाओं के लिए उनके पास पैसा नहीं था। शर्मा ने कहा कि जो कमलनाथ मुख्यमंत्री रहते हुए कभी ग्वालियर नहीं आए, वो अब किस मुंह से ग्वालियर आ रहे हैं? माफिया चला रहा था कांग्रेस सरकार विष्णुदत्त शर्मा ने कहा कि तत्कालीन कांग्रेस सरकार के एक कैबिनेट मंत्री उमंग सिंघार ने ही यह आरोप लगाया था कि सरकार के निर्णय कैबिनेट की बैठक में नहीं होते, बल्कि दिग्विजयसिंह पर्दे के पीछे से सरकार चला रहे थे। सारे फैसले पर्दे के पीछे से हो रहे थे और माफिया कांग्रेस की सरकार को चला रहा था। उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर कमलनाथ को प्रदेश की जनता को जवाब देना चाहिए। कमलनाथ बताएं, मध्यप्रदेश से क्या रिश्ता शर्मा ने कहा कि कांग्रेस अंतरराष्ट्रीय झूठ मंडली है। उसके दिग्विजयसिंह जैसे नेता किसी भी बात पर सवाल कर सकते हैं। भारत ने पाकिस्तान में सर्जिकल स्ट्राइक की, जिसे सारी दुनिया ने माना था। लेकिन दिग्विजयसिंह उस पर भी सवाल खड़े करते हैं और सबूत मांगते हैं। शर्मा ने कहा कि अगर हम कांग्रेस के स्तर तक नीचे जाएं, तो हम भी पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ से यह पूछ सकते हैं कि वो कब से मध्यप्रदेश में हैं और मध्यप्रदेश से उनका क्या रिश्ता है? लेकिन हम उस स्तर पर जाना नहीं चाहते। सिर्फ छिंदवाड़ा के मुख्यमंत्री थे कमलनाथ प्रदेश अध्यक्ष शर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री रहते हुए भी कमलनाथ को सिर्फ छिंदवाड़ा ही दिखाई देता था। पन्ना में 300 करोड़ की लागत से खुलने वाला एग्रीकल्चर कॉलेज कमलनाथ छिंदवाड़ा ले गए। सिंचाई परियोजनाओं को छिंदवाड़ा ले गए। ऐसा लगता था, जैसे कमलनाथ सिर्फ छिंदवाड़ा के मुख्यमंत्री थे, ग्वालियर या प्रदेश के अन्य जिलों की उन्हें चिंता नहीं थी। सिंधिया जी और उनके साथियों ने ग्वालियर-चंबल के हित के लिए, प्रदेश को बचाने के लिए इस्तीफा दिया और सरकार चली गई। हिन्दुस्थान समाचार/केशव दुबे-hindusthansamachar.in