एक बार में 15 दिनों से अधिक दिनों तक नहीं लें इम्यूनिटी बढ़ाने वाला काढ़ा
एक बार में 15 दिनों से अधिक दिनों तक नहीं लें इम्यूनिटी बढ़ाने वाला काढ़ा
मध्य-प्रदेश

एक बार में 15 दिनों से अधिक दिनों तक नहीं लें इम्यूनिटी बढ़ाने वाला काढ़ा

news

पं.खुशीलाल शर्मा आयुर्वेद महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. शुक्ला ने दी सलाह भोपाल, 24 जुलाई (हि.स.)। कोरोना संकट के दौर में आयुष काढ़ा काफी लोकप्रिय हो रहा है। घरों में तो इसका उपयोग हो रही रहा है, दफ्तरों में भी अब यह चाय-कॉफी का विकल्प बनता जा रहा है। लेकिन कोरोना महामारी के प्रति असुरक्षा का भाव कहें या सुपर इम्यूनिटी हासिल करने की चाहत, कई लोग बिना सोचे विचारे इसका उपयोग कर रहे हैं। डॉक्टर्स का कहना है कि त्रिकटु काढ़ा एक बार में 15 दिनों से अधिक समय तक न लें, वर्ना कुछ समस्याएं भी पैदा हो सकती हैं। कोरोना महामारी के पैर पसारते ही प्रदेश सरकार ने त्रिकटु काढ़े का वितरण शुरू कर दिया था। केंद्र सरकार के आयुष मंत्रालय ने भी इसकी अनुशंसा की थी। हालांकि काढ़े का जो पाउच वितरित किया जा रहा है, उसमें रखी हुई पर्ची में उपयोग का तरीका बताया गया है, इसके बावजूद कई लोग इसका सेवन अंधाधुंध तरीके से कर रहे हैं। पं. खुशीलाल शर्मा आयुर्वेद महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. उमेश शुक्ला का कहना है कि त्रिकटु काढ़े में जो चीजें शामिल हैं, वे सभी आयुर्वेदिक औषधियां हैं, जिनके अपने-अपने गुण हैं। ये सभी अपने गुणों के हिसाब से मानव शरीर और स्वास्थ्य पर प्रभाव डालती हैं। इसलिए काढ़े का सेवन अंधाधुंध तरीके से नहीं करना चाहिए, बल्कि इससे अधिकतम लाभ लेने के लिए सही तरीके से ही इसका सेवन करना चाहिए। उन्होंने कहा कि काढ़े का उपयोग एक बार में 15 दिनों से अधिक समय तक नहीं करना चाहिए। यदि दोबारा इसे लेने की जरूरत पड़े, तब भी कुछ दिन ब्रेक लेकर दोबारा इसका उपयोग शुरू करना चाहिए। इस तरह करें काढ़े का सेवन - दो लीटर पानी में 5 ग्राम काढ़े का चूर्ण डालकर उसे एक लीटर बचने तक उबालें। - एक लीटर काढ़ा दो लोगों के लिए, पूरे दिन के लिए पर्याप्त है। एक-एक कप की मात्रा में इसे दिन में तीन बार पीयें। - डॉ. शुक्ला का कहना है कि काढ़े का सेवन खाली पेट नहीं करना चाहिए, बल्कि इसे नाश्ते या भोजन के बाद लें। - अधिक गर्म काढ़े का सेवन न करें। - किसी भी तरह की परेशानी होने पर अपने डॉक्टर से संपर्क करें। हिन्दुस्थान समाचार/केशव दुबे-hindusthansamachar.in