उज्जैन: कोरोना को मात देकर नौ लोग पहुंचे अपने घर, डॉक्टरों का धन्यवाद
उज्जैन: कोरोना को मात देकर नौ लोग पहुंचे अपने घर, डॉक्टरों का धन्यवाद
मध्य-प्रदेश

उज्जैन: कोरोना को मात देकर नौ लोग पहुंचे अपने घर, डॉक्टरों का धन्यवाद

news

उज्जैन, 31 जुलाई (हि.स.)। उज्जैन के मक्सी रोड स्थित पुलिस ट्रेनिंग स्कूल से शुक्रवार को नौ लोगों ने कोरोना को मात दी और पूरी तरह स्वस्थ होकर अपने-अपने घर रवान हुए। त्यौहार के मौसम में कोरोना संक्रमण से पूरी तरह ठीक होकर अपनों के बीच जाने की खुशी उनके चेहरों पर साफ दिख रही थी। उल्लेखनीय है कि आगामी दिनों में ईदुलजुहा, रक्षा बन्धन और अन्य प्रमुख त्यौहार आयेंगे। अपने घर जा रहे एक व्यक्ति ने कहा कि वे जब कोरोना से संक्रमित होकर इलाज के लिये पीटीएस में भर्ती हुए थे, तब उन्हें लग रहा था कि शायद इस बार अपने लोगों के बीच में रहकर ईद नहीं मना पाएंगे, लेकिन पीटीएस में मिली अच्छी देखभाल और यहां डॉक्टरों और चिकित्साकर्मियों के सहयोगात्मक रवैये के कारण वे कुछ ही दिनों में पूर्णत: स्वस्थ हो गये और आज अपने घर को जा रहे हैं। उन्होंने सभी डॉक्टरों का शुक्रिया अदा किया। डॉक्टरों ने भी उन्हें ईद की मुबारकबाद दी। इसी प्रकार ठीक होकर जा रही एक अन्य महिला ने कहा कि रक्षाबंधन के त्यौहार पर बहनें अपने भाइयों की कलाई पर रक्षासूत्र अथवा राखी बांधती हैं। इसके बदले में भाई आजीवन उनकी रक्षा करने का वचन देते हैं। वर्तमान समय में कोविड संक्रमण से आम जनता के जीवन की रक्षा करने में सभी डॉक्टर्स और चिकित्साकर्मी भी भाई की तरह ही अपना वचन निभा रहे हैं। महिला ने सभी चिकित्सकों से कहा कि उन्होंने परिवार के सदस्य की तरह न सिर्फ उनका मुश्किल समय में साथ दिया, बल्कि कोरोना संक्रमण से उन्हें स्वस्थ भी किया है, जिसके लिये वे उनकी आजीवन आभारी रहेंगी। इस दौरान पीटीएस के नोडल डॉ. एएस तोमर एवं उनकी समस्त टीम ने ठीक होकर घर जा रहे लोगों को त्यौहारों की शुभकामनाएं दी। डॉ. तोमर ने उनसे कहा कि वे अगले 10 दिनों तक पूर्णत: एकांतवास में रहें, भोजन में अधिक तला-गला भोजन का सेवन न करें, हरी सब्जियां, फल और आसानी से पचने वाला भोजन डाइट में शामिल करें। दो गज दूरी के नियमों का अनिवार्य रूप से पालन करें। मास्क अवश्य पहनें तथा समय-समय पर अपने हाथ बार-बार साबुन से धोयें। डॉ. तोमर ने लोगों से कहा कि यदि उन्हें दोबारा सर्दी, खांसी, बुखार जैसे लक्षण होते हैं तो तुरन्त बिना देर किये फीवर क्लिनिक में जाकर डॉक्टर को दिखायें। आज जो लोग स्वस्थ होकर अपने घर जा रहे हैं वे फोन के माध्यम से अपने परिजनों तथा पड़ौसियों को भी यह बताएं कि कोरोना संक्रमण से बचाव के लिये क्या-क्या सावधानियां बरतनी चाहिये। लोग अपने परिवार में छोटे बच्चों और बुजुर्गों का विशेष ध्यान रखें। इन सावधानियों का जितना अधिक प्रचार-प्रसार होगा, उतनी ही आमजन में जागरूकता फैलेगी। इसके अलावा सभी लोग अपने मोबाइल पर सार्थक एप डाउनलोड करें। डॉ. तोमर ने लोगों से कहा कि वे कोरोना जैसी बीमारी को हराकर आज अपने घर जा रहे हैं। बस सभी लोगों से यही एक बात कहें कि कोरोना संक्रमण से डरने की बजाय सतर्कता बरतना ज्यादा जरूरी है। उन्हें सही समय पर इलाज मिल सका, इसीलिये वे आज पूर्णत: स्वस्थ होकर सकुशल अपने घर लौट रहे हैं। इसीलिये कोरोना के लक्षण होने पर छुपाये नहीं, बल्कि तुरन्त डॉक्टर के पास जायें। इस दौरान स्टाफ द्वारा तालियां बजाकर लोगों की हौसला अफजाई की गई और शुभकामनाएं देकर उन्हें अपने घर के लिये रवाना किया गया। रवाना होने से पहले लोगों को डॉ. वसीम खान द्वारा प्रमाण-पत्र वितरित किये गये। घर जा रहे लोगों ने भी बस के बाहर हाथ हिलाकर डॉक्टरों का अभिवादन किया। हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश-hindusthansamachar.in