अब अध्यक्ष और पार्षद पद के दावेदारों को करना होगा तीन माह और इंतजार
अब अध्यक्ष और पार्षद पद के दावेदारों को करना होगा तीन माह और इंतजार
मध्य-प्रदेश

अब अध्यक्ष और पार्षद पद के दावेदारों को करना होगा तीन माह और इंतजार

news

अब अध्यक्ष और पार्षद पद के दावेदारों को करना होगा तीन माह और इंतजार गुना 26 दिसंबर (हि.स.)। नगर पालिका के अध्यक्ष बनने का सपना संजोए नेताओं के लिए फिलहाल बुरी खबर है कि उनको तीन माह और अध्यक्ष बनने का इंतजार करना पड़ेगा। इसकी वजह ये है कि राज्य निर्वाचन आयोग ने कोविड-19 के प्रकोप को देखते हुए नगरीय निकाय और त्रिस्तरीय पंचायतों के चुनाव तीन माह के लिए टाल दिए हैं। गुना नगर पालिका का कार्यकाल दिसंबर 2019 को हो गया था। इसके बाद प्रदेश शासन ने अध्यक्ष के न होने पर प्रशासक के रूप में तत्कालीन कलेक्टर भास्कर लाक्षाकार को नियुक्त किया था। वर्तमान में कलेक्टर कुमार पुरुषोत्तम प्रशासक के रूप में यहां तैनात हैं। ऐसे ही आरोन, चांचौड़ा, कुंभराज नगर परिषद मेें भी अध्यक्ष और पार्षद पद के चुनाव जनवरी माह में कराए जाने की पूरी तैयारी थी। नगर पालिका और नगर पंचायत अध्यक्ष और पार्षद पद के आरक्षण तक हो गए थे। गुना नगर पालिका का अध्यक्ष पद सामान्य वर्ग महिला के लिए आरक्षित हो गया था। इसके बाद अध्यक्ष पद के लिए 39 दावेदारों के नाम सामने आए थे, इनमें सिंधिया समर्थकों और भाजपा नेताओं की पत्नी, बहू और बेटियों के नाम मुख्य थे। भाजपा की ओर से जिनके नाम तेजी से चल रहे थे उनमें पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष राजेन्द्र सलूजा की धर्मपत्नी या बहू, वंदना मांडरे, अनुसुईया रघुवंशी, डा. नीरु शर्मा, सुनीता टिल्लू रघुवंशी के अलावा अनुज जैन की धर्मपत्नी, कृष्णा झा, गिरराज भार्गव की धर्मपत्नी, अनिल रूप श्री की धर्मपत्नी, सूर्यकांत जगताप की धर्मपत्नी, मनोरमा रघुवंशी, अंशु रघुवंशी, मनोज दुबे की धर्मपत्नी, अरविन्द गुप्ता की धर्मपत्नी के अलावा नीता तिवारी, समीक्षा रवि मंगल, रेनू बाला निगम, नीलम बिन्दल,रेणु विकास जैन, कर्मचारी नेता अनिल भार्गव और प्रमोद रघुवंशी के धर्मपत्नी के अलावा एक दर्जन से अधिक और भाजपा नेताओं की पत्नी, बहू व बेटी के नाम सामने आए थे। नपा अध्यक्ष पद के दावेदार वार्डों में बैठक करने भी लग गए थे। कांग्रेस की ओर से रजनीश शर्मा, विश्वनाथ तिवारी की धर्मपत्नी के नाम प्रमुुखता से चर्चाओं में आए थे। माकपा और भाकपा भी यहां से नगर पालिका अध्यक्ष पद के लिए महिला उम्मीदवार उतारने की पूरी तैयारी में थे। ऐसे ही कुंभराज नगर परिषद से भाजपा से आधा दर्जन से अधिक, चांचौड़ा में भी पांच, आरोन नगर पंचायत से छह उम्मीदवारों के नाम चर्चाओं में आए थे। इसके साथ ही पार्षद पद के लिए सिंधिया समर्थकों के भाजपा में आ जाने के बाद एक-एक वार्ड से छह से दस तक उम्मीदवार अपनी-अपनी दावेदारी जता रहे थे। उधर त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की तैयारियों के बीच गांव-गांव में भी सरपंची के लिए चौपालें सजने लगी थीं। दावेदार गांव-गांव में लोगों से मिलने लगे थे। गांव-गांव में दावेदार मतदाताओं की सूची ले जाकर उनकी छान-बीन कराकर तैयारियों में जुट गए थे। हिन्दुस्थान समाचार / अभिषेक-hindusthansamachar.in