अपडेट.. कोरोना के चलते मप्र विधानसभा का मानसून सत्र स्थगित, अध्यादेश लाकर होगी बजट की व्यवस्था
अपडेट.. कोरोना के चलते मप्र विधानसभा का मानसून सत्र स्थगित, अध्यादेश लाकर होगी बजट की व्यवस्था
मध्य-प्रदेश

अपडेट.. कोरोना के चलते मप्र विधानसभा का मानसून सत्र स्थगित, अध्यादेश लाकर होगी बजट की व्यवस्था

news

भोपाल, 17 जुलाई (हि.स.)। मप्र में लगातार बढ़ते कोरोना संक्रमण के मामलों को देखते हुए 20 जुलाई से शुरू होने वाले मप्र विधानसभा के मानसून सत्र स्थगित कर दिया गया है। अब अध्यादेश लाकर बजट की व्यवस्था होगी। शुक्रवार को हुई सर्वदलीय बैठक में यह निर्णय लिया गया। बैठक में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा, गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा, विपक्ष के नेता कमलनाथ और सज्जन सिंह वर्मा की मौजूदगी में आपसी सहमति से सत्र को स्थगित करने का निर्णय लिया। अब इस प्रस्ताव को अनुमोदन के लिए राज्यपाल आनंदबेन पटेल के पास भेजा जाएगा। गौरतलब है कि इससे पहले बजट सत्र को भी कोरोना संकट के कारण स्थगित कर दिया गया था। इसके बाद 20 जुलाई से 24 जुलाई तक पांच दिवसीय सत्र आहूत होनी थी। इस दौरान पहले दिन श्रद्धांजलि के बाद दूसरे दिन बजट पेश होना था, लेकिन अब उसे भी स्थगित कर दिया गया है। सर्वदलीय बैठक में निर्णय लिया गया कि सदन की कार्यवाही को आगामी सूचना तक स्थगित रखने के लिए राज्यपाल को अनुमोदन किया जाएगा। कोविड 19 की गाईड लाइन को ध्यान में रखते हुए यह निर्णय लिया गया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मानसून सत्र स्थगित होने की जानकारी देते हुए बताया कि भोपाल में 20 जुलाई से 24 जुलाई तक चलने वाले मध्यप्रदेश विधानसभा का मानसून सत्र स्थगित कर दिया गया है। सर्वदलीय बैठक में (कोरोना संक्रमण) वर्तमान परिस्थियों को देखते हुए सत्र स्थगित करने का निर्णय लिया गया है। सीएम शिवराज ने कहा कि जो दूसरों को नसीहत देते हैं, वो खुद पर भी लागू होती है। लोगों को दूरी बनाए रखने के लिए कहते हैं तो विधायकों और मंत्रियों को भी उसका पालन करना चाहिए। इसलिए सत्र केंसिल कर दिया गया है। जो भी महत्वपूर्ण प्रस्ताव होंगे वो अध्यादेश के माध्यम से पारित होंगे। प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने सत्र स्थगित होने की जानकारी देते हुए कहा कि हमारी विधानसभा में विधायकों के साथ करीब एक हजार लोग विधानसभा में आएंगे। सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन होगा। ऐसी स्थिति में कोरोना की चैन तोडऩे के लिए यह कदम उठाया गया है। हिन्दुस्थान समाचार/ नेहा पाण्डेय-hindusthansamachar.in