अनीता नामदेव ने दिया प्रधानमंत्री को निमंत्रण, गुलाबसिंह से पीएम ने पूछा मजा म छे
अनीता नामदेव ने दिया प्रधानमंत्री को निमंत्रण, गुलाबसिंह से पीएम ने पूछा मजा म छे
मध्य-प्रदेश

अनीता नामदेव ने दिया प्रधानमंत्री को निमंत्रण, गुलाबसिंह से पीएम ने पूछा मजा म छे

news

भोपाल, 12 सितम्बर (हि.स.)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा आवास योजना के 1.75 लाख हितग्राहियों का गृहप्रवेश प्रदेश के उन लोगों के लिये यादगार पल बन गया, जिन्हें इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी से बातचीत करने का सौभाग्य मिला। इनमें से एक भितरवार की अनिता नामदेव हैं, जिन्होंने प्रधानमंत्री को उनके घर आने का निमंत्रण दिया है। वहीं, दूसरे अमझेरा के गुलाबसिंह हैं, जिनसे प्रधानमंत्री ने उनके हालचाल पूछे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत बने 1.75 लाख आवासों का गृहप्रवेश कराया। डिजिटल प्लेटफार्म पर आयोजित इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान भी उपस्थित थे। इस दौरान प्रधानमंत्री ने हितग्राहियों से आत्मीय चर्चा भी की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात होगी यह सोचकर भितरवार क्षेत्र के भोरी गांव निवासी हितग्राही अनीता पत्नी नरेंद्र नामदेव समय से पहले कार्यक्रम स्थल पर पहुंच गए थे। जहां पीएम मोदी ने पहले उनका हालचाल जाना। पीएम मोदी ने अनीता से कहा कि कैसा लग रहा है आज घर में क्या बनाया है। इस से उत्साहित होकर अनीता ने कहा कि हम बेहद खुश हैं। मैं आपका निमंत्रण करती हूं आप आएंगे या नहीं, सिर्फ हां या ना में जवाब दीजिए। तब प्रधानमंत्री ने कहा कि आपने मुझे आमंत्रित किया है यह मेरा सौभाग्य। जब भी समय मिला तब जरूर आऊंगा। इसके बाद पीएम मोदी ने नरेंद्र नामदेव से कहा कि आप क्या करते हैं आपको चश्मा भी लगा हुआ है। तब नरेंद्र ने कहा कि वह दर्जी है और कपड़े सिलने का काम करते हैं। इसलिए आंखों पर चश्मा लग गया है। गुलाब भाई राम राम, कसो काई मजा म छे धार जिले के अमझेरा के बीड़ गांव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पीएम आवास के हितग्राही गुलाबसिंह कौशल को गृहप्रवेश कराया। मोदी ने गुलाब और उसके बेटे से लाइव बात की। पीएम ने कहा गुलाबभाई राम राम....। फिर पीएम बोले कसो काय मजे म छे। गुलाब बोला मज म छे। पीएम ने कहा कि घर बणावा कई आफत तो नहीं आई। गुलाब ने का कि नहीं आई। पीएम पूछा बताए कैसे घर बनाया तो गुलाब ने कहा कि मेरी तबीयत छोड़ी खराब हैं तो मेरा छोरा (बेटा) बताएगा। प्रधानमंत्री ने उनके बेटे से करीब 17 मिनट तक बात की। इस दौरान पीएम ने हलमा पद्धति के बारे में पूछा। कहा कि जिस प्रथा से आपने घर बनाया, यह एक तरह से सामाजिक तालमेल की मिसाल है। बेटे ने बताया कि काम के लिए समाज के लोगों को पैसा नहीं देने होता है, सिर्फ खाना खिलाते हैं। खाने की बात पर पीएम ने मुस्कराते हुए पूछा कि क्या खाने में मुर्गा खिलाते हैं। जिस पर सभी मुस्करा दिए। गुलाबसिंह के बेटे ने बताया कि खिचड़ी और मक्का की रोटी खिलाते हैं। अच्छी दाल बनाते हैं। बोले अच्छा आप वही खिलाते हैं जो दाहोद वाले खिलाते हैं। हिन्दुस्थान समाचार/केशव दुबे-hindusthansamachar.in