youth-caught-burning-case-police-station-incharge-suspended
youth-caught-burning-case-police-station-incharge-suspended
झारखंड

युवक के जिंदा जलने के मामले ने पकड़ा तूल, थाना प्रभारी हुए निलंबित

news

रामगढ़, 05 अप्रैल (हि.स.)। रामगढ़ क्षत्रिय धर्मशाला के तीन डिसमिल जमीन विवाद में एक युवक के जिंदा जलने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। आईजी प्रिया दुबे ने इस पूरे मामले की जांच करते हुए रामगढ़ थाना प्रभारी विद्याशंकर को निलंबित कर दिया है। अब यह मामला पूरी तरीके से क्षत्रिय समाज के विरोध जाता हुआ दिख रहा है। अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के रामगढ़ जिला अध्यक्ष कमलेश्वर सिंह ने कहा है कि आगजनी की घटना किसी के द्वारा कि नहीं गई है। मनोज पांडे ने खुद ही अपने शरीर में आग लगाई है। क्षत्रिय महासभा अपनी जमीन पर पिलर टू पिलर बाउंड्री का निर्माण कर रहा था। इसी दौरान मनोज पांडे और उसके परिवार के सदस्यों ने विरोध किया। इसी विरोध के दौरान आवेश में आकर मनोज पांडे ने अपने शरीर में आग लगा दी। वहां मौजूद मजदूरों और क्षत्रिय समाज के सैकड़ों लोगों ने इस घटना को देखा है। इस घटना में क्षत्रिय समाज के किसी भी व्यक्ति का हाथ नहीं है, जिस जमीन पर मोती पांडे और उनके परिवार के द्वारा दावा किया जा रहा है वह जमीन पूरी तरीके से क्षत्रिय महासभा की है। इस मामले में कई बार एसडीओ और डीसी कोर्ट में केस चला है। हर जगह से पांडे परिवार को हार ही हाथ लगी है। नईसराय के कुछ लोगों के द्वारा पांडे परिवार को उकसाने का काम किया जा रहा है। मैं गरीब ब्राह्मण हूं, मुझे न्याय चाहिए : मोती पांडे रामगढ़ थाना प्रभारी विद्याशंकर के निलंबित होने के बाद मोती पांडे ने एक बार फिर न्याय की गुहार लगाई है। उन्होंने कहा है कि रामगढ़ पुलिस से तो उन्हें उम्मीद नहीं थी। लेकिन अब वरीय अधिकारियों के हस्तक्षेप के बाद उनके अंदर न्याय की उम्मीद जगी है उन्होंने कहा कि मैं गरीब ब्राह्मण हूं। मेरे पूर्वजों की आठ डिसमिल जमीन क्षत्रिय धर्मशाला के पीछे है। छत्रिय धर्मशाला भी पीडब्ल्यूडी की सरकारी जमीन पर बनी हुई है। क्षत्रिय महासभा के कुछ भू माफियाओं के द्वारा उनकी तीन डिसमिल जमीन पर अवैध कब्जा कर लिया गया है। हिन्दुस्थान समाचार/अमितेश