you-can-renounce-many-evils-including-intoxication-due-to-the-effects-of-satsang-neelkanth-singh-munda
you-can-renounce-many-evils-including-intoxication-due-to-the-effects-of-satsang-neelkanth-singh-munda
झारखंड

सत्संग के प्रभाव से नशा पान सहित कई बुराइयों का कर सकते हैं त्याग : नीलकंठ सिंह मुंडा

news

धूमधाम से हुआ दस दिवसीय ध्यानाभ्यास कार्यक्रम का समापन खूंटी, 21 मार्च (हि.स.)। महर्षि मेंहीं आश्रम मलियादा मुरहू में दस दिवसीय ध्यानाभ्यास कार्यक्रम का समापन हाे गया। संतों के प्रवचनों ने श्रोताओं को आत्मविभोर कर दिया। रविवार को कार्यक्रम की शुरूआत ईश गुरु स्तुति ग्रंथपाठ से किया गया। इस मौके पर ऋषिकेश आश्रम के स्वामी गंगाधरजी महाराज ने कहा कि ध्यान साधना से आत्मा का कल्याण होता है। मनुष्य शरीर के अलावा किसी योनि में ऐसा संभव नहीं है। सत्संग मेंं मनुष्य को जीने का सर्वोत्तम मार्ग मिलता है। स्वामी श्याम बाबा ने कहा कि सत्संग व ध्यान जीवन को सकारात्मक बनाते हैं तथा सन्मार्ग की ओर प्रेरित करते हैं। स्वामी जगेश्वर बाबा ने कहा कि पलभर या थोड़ी भी ईश्वर की सच्ची भक्ति से कलयुग में भवसागर पार करने की क्षमता है। स्वामी बालकृष्ण बाबा ने कहा कि संतों के बताए मार्ग पर चलकर मानव परमात्मा का साक्षात्कार कर मोक्ष प्राप्त कर सकता है। इस मौके पर मुख्य अतिथि विधायक नीलकंठ सिंह मुंडा ने कहा कि सत्संग से क्षेत्र के लोगों का बहुत सामाजिक कल्याण व विकास हुआ है। बहुत से लोग नशापान आदि बुराई का त्यागकर अपना जीवन खुशहाल जी रहे हैं। हमें संतों की बातों पर अक्षरशः अमल करना चाहिए। लोदरो बाबा व डाॅ. डीएन तिवारी ने भी सत्संग व ध्यान की विशेषता बताई। कार्यक्रम का संचालन राजकुमार गुप्ता ने किया। मौके पर विशिष्ट अतिथि भाजपा किसान मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष व विधायक प्रतिनिधि काशीनाथ महतो, राम बिहारी लाल, फतेहचंद अग्रवाल, सरयू केशरी, डाॅ श्याम और चमरा मुंडा आदि ने योगदान दिया। हिन्दुस्थान समाचार/अनिल