रामचंद्र खलार क्षेत्र के पहाड़ी से गिरने वाले पानी से हो सकती है सिंचाई की समस्या दूर : ममता देवी

रामचंद्र खलार क्षेत्र के पहाड़ी से गिरने वाले पानी से हो सकती है सिंचाई की समस्या दूर : ममता देवी
water-falling-from-the-hill-of-ramchandra-khalar-region-can-solve-the-problem-of-irrigation-mamta-devi

रामगढ़, 11 जून (हि.स.)। विकास कार्यों में गति लाने के उद्देश्य शुक्रवार को विधायक ममता देवी ने उप विकास आयुक्त नागेंद्र कुमार सिन्हा के साथ दुलमी प्रखंड का दौरा किया। इस दौरान दुलमी प्रखंड अंतर्गत जमीरा पंचायत का दौरा कर लाभुक वीरेंद्र कुमार की भूमि पर बिरसा हरित ग्राम योजना के तहत आम बागवानी योजना का शुभारंभ किया। इस दौरान उप विकास आयुक्त नागेंद्र कुमार सिन्हा द्वारा विधायक को जानकारी दी गई कि लाभुक विरेंद्र कुमार की लगभग 1 एकड़ भूमि पर 192 गड्ढों की खुदाई की जाएगी। जिनमें 112 पर आम बागवानी योजना के माध्यम से आम के पौधे तथा शेष पर इमारती पौधे लगाए जाएंगे। इसके अलावा इंटर क्रॉपिंग के माध्यम से वे अलग-अलग तरह के फसलों की खेती कर लाभ प्राप्त कर सकते हैं। विधायक ने कुलही पंचायत का भी दौरा किया और लाभुक मंजू देवी की 50 डिसमिल भूमि पर बिरसा हरित ग्राम योजना के तहत गड्ढों की खुदाई के तहत हुए कार्यों का जायजा लिया। इसके साथ ही उन्होंने कुल्ही पंचायत में बिरसा हरित ग्राम योजना के तहत पूर्व में संचालित आम बागवानी योजना तथा मनरेगा कूप निर्माण योजना के तहत हुए कार्यो का जायजा लिया। विधायक द्वारा दुलमी प्रखंड के बाजारटांड में 45 वर्ष से अधिक आयु के लोगों के लिए बनाए गए स्थाई कोरोना टीकाकरण शिविर का उद्घाटन किया गया। इस दौरान उनके द्वारा सभी से अफवाहों पर ध्यान ना देने एवं अनिवार्य रूप से कोरोना का टीका लेने की अपील की गई। इसके साथ ही उन्होंने टीकाकरण केंद्र पर लोगों के बीच मास्क का भी वितरण किया। विधायक ने कुलही पंचायत के पुत्रीडीह क्षेत्र में रह रहे ग्रामीणों को सिंचाई कार्य में लाभ पहुंचाने के उद्देश्य से रामचंद्र खलार के पहाड़ी इलाकों का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने रामचंद्र खलार क्षेत्र में पहाड़ी इलाकों से से आ रहे पानी के माध्यम से ग्रामीणों को सिंचाई कार्य में लाभ पहुंचाने के प्रति जिला प्रशासन का ध्यान आकर्षित किया। इस दौरान उप विकास आयुक्त द्वारा इस संबंध में आवश्यक कार्रवाई करने की बात कही गई। विधायक ने कहा कि अगर उस जल का सही उपयोग किया जाए, तो किसानों की सिंचाई की समस्या दूर हो जाएगी। हिन्दुस्थान समाचार/ अमितेश