The death of two migrant laborers created a ruckus in the family
The death of two migrant laborers created a ruckus in the family
झारखंड

दो प्रवासी मजदूरों की मौत से परिवार में मचा कोहराम

news

गिरिडीह, 14 जनवरी (हि.स.)। गिरिडीह के दो प्रवासी मजदूरों की परदेस में अलग- अलग घटना में मौत की खबर से उनके घर में कोहराम मचा है। पीड़ित परिवारों को अब शव का इंतजार है। दोनों मजदूर बिरनी और बगोद्र थाना क्षेत्र के रहने वाले हैं। बिरनी थाना के किसनीटांड़ निवासी रिंकू यादव की मौत महाराष्ट्र के वाशिम में हो गई है। भाकपा माले के नेता सूरजदेव तुरी ने पीड़ित परिवार से मिलने के बाद जिला प्रशासन से सहयोग करने की गुजारिश की है। उन्होंने बताया कि लालू प्रसाद यादव के पुत्र रिंकू यादव 25 साल के थे। बीते दिसंबर महीने में रोजगार की खातिर वे महाराष्ट्र के वाशिम गए थे। घर- परिवार का गुजर- बसर रिंकू के भरोसे था। वाशिम में एक सड़क निर्माण कंपनी में पोकलेन मशीन मे वह हेल्पर के तौर पर काम कर रहा था। दो दिनों पहले मंगलवार को काम के दौरान उसके सिर पर चोट लगने के बाद वह घायल हो गया था। इसके बाद उसे वाशिम के जिला अस्पताल में मौत हो गई। प्रवासी मजदू के पिता बताते हैं कि रिंकू यादव के दो छोटे बच्चे हैं। इस घटना के बाद घर के लोगों पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। पीड़त परिजनों के मुताबिक लॉकडाउन के बाद से काम के लिए रिंकू परेशान था। जब काम खुलने लगे, तो उसने कहा कि बाहर जाना ही होगा। बगोदर प्रखंड के बेको पूर्वी पंचायत के सुंदरूटांड़ के प्रवासी मजदूर प्रीतम महतो के मुंबई में मौत की खबर से घर वाले परेशान हैं। प्रीतम पानी जहाज में काम करता था। घर वालों को जानकारी मिली है कि बाथरूम में गिरने से उसकी मौत हो गई। प्रीतम का शव गांव के लिए भेजा गया है। हिन्दुस्थान समाचार /वंदना-hindusthansamachar.in