संघीय ढांचे पर आघात और संविधान से विश्वासघात बर्दाश्त नहीं : सुबोधकांत सहाय
संघीय ढांचे पर आघात और संविधान से विश्वासघात बर्दाश्त नहीं : सुबोधकांत सहाय
झारखंड

संघीय ढांचे पर आघात और संविधान से विश्वासघात बर्दाश्त नहीं : सुबोधकांत सहाय

news

रांची, 23 जुलाई ( हि.स.) पूर्व केन्द्रीय मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता सुबोधकांत सहाय ने कहा है कि केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार न केवल केन्द्रीय एजेंसियों बल्कि अपने धनबल का निरंतर दुरूपयोग कर गैर एनडीए सरकारों को अस्थिर करने का लगातार प्रयास कर रही है। सहाय ने गुरुवार को कहा कि कांग्रेस, संघीय ढांचे से आघात और संविधान से विश्वासघात को किसी भी हाल में न तो बर्दाश्त करेगी साथ ही अपनी मूलभूत विचारधारा से भी कोई समझौता नहीं करेगी। उन्होंने कहा कि वे पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की इस बात से पूरी तरह सहमत हैं कि केन्द्र, गैर एनडीेए सरकारों को अस्थिर करने के लिये लगातार साज़िश रच रहा है और इसके लिये वह वैसे राज्यों में ना केवल केन्द्रीय एजेंसी बल्कि अपने धनबल का भी पूरा दुरूपयोग कर रहा है। उन्होंने कहा कि भारतीय संविधान और संघवाद में ना केवल स्वतंत्रता संग्राम बल्कि महात्मा गाँधी, जवाहरलाल नेहरू, बल्लभभाई पटेल व सुभाषचन्द्र बोस का संघर्ष भी समाहित है और इसका ख्याल सभी को रखना चाहिये कि वह कठिन तपस्या और देश के प्रति उनका समर्पण किसी के क्षुद्र स्वार्थ के कारण व्यर्थ न चला जाये। सहाय ने कहा कि आज पूरा देश कोरोना महामारी से जूझ रहा है वहीं नरेन्द्र मोदी और अमित शाह की जोड़ी विपक्षी राज्य सरकारों को गिराने की कोशिश कर रही है जिसका अच्छा उदाहरण राजस्थान और पश्चिम बंगाल की घटनाएँ हैं। उन्होंने कहा कि ना तो देश में इस गुजराती मानसिकता को जारी रहने दिया जायेगा ना ही मोदी-शाह जैसे जुड़वाँ भाईयों को अपने निहित स्वार्थ को पूरा करने में कभी सफलता मिलेगी क्योंकि कांग्रेस जी-जान से स्वतंत्रता संग्राम और संविधान की मूलभूत भावना का संरक्षण हर हाल में करेगी। हिंदुस्थान समाचार /विनय/सबा एकबाल-hindusthansamachar.in