मनरेगा जेई रवि कुमार की संविदा रद्द कर राशि वसूली की कार्रवाई
मनरेगा जेई रवि कुमार की संविदा रद्द कर राशि वसूली की कार्रवाई
झारखंड

मनरेगा जेई रवि कुमार की संविदा रद्द कर राशि वसूली की कार्रवाई

news

पाकुड़, 23 जुलाई(हि.स.)। भ्रष्टाचार के दोषी पाए जाने वाले हिरणपुर के मनरेगा जेई रवि कुमार की संविदा रद्द करते हुए उनसे गबन की राशि की वसूली का निर्देश दिया गया है। यह कार्रवाई डीडीसी राम निवास यादव ने की है। उन्होंने बताया कि गबन की राशि जमा नहीं करने पर रवि कुमार के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराया जाएगा । जेई रवि कुमार पर योजना राशि से अधिक राशि की निकासी समेत कई अन्य गंभीर आरोप लगे थे।जो जांच के दौरान सही पाए गए। हालांकि जांच में लगे आरोपों की पुष्टि होने के बाद गत 23 मार्च 2020 को उनकी संविदा रद्द कर दी गई थी। साथ ही विभाग द्वारा उनसे गबन की राशि वसूली का निर्देश दिया गया था। लेकिन रवि कुमार ने अब तक गबन की पूरी राशि जमा नहीं की है। डीडीसी राम निवास यादव ने बताया कि यदि जेई गबन की पूरी राशि जमा नहीं कराते हैं, तो उनके खिलाफ मामला दर्ज कराया जाएगा, ताकि सरकारी राशि की वसूली की जा सके। हिरणपुर प्रखंड में संचालित योजनाओं में कार्य से अधिक राशि निकासी मामले में सामाजिक अंकेक्षण टीम ने जेई समेत अन्य कर्मियों को भी दोषी पाया था।उल्लेखनीय है कि उनके द्वारा प्रखंड के सिउलीडांगा गांव में मनरेगा योजना के तहत ठाकुर हेम्बरम की जमीन पर योजना संख्या 91डब्ल्यू सी/2014 के आधार पर तालाब निर्माण किया गया था। इसकी प्राक्लित राशि 8,10,380 रूपए के एवज में किए गए कार्य से अधिक 3,39,469रूपए अधिक की निकासी कर ली गई थी।जिसे सामाजिक अंकेक्षण की टीम ने पकड़ा था।जिसके बाद टीम ने राशि वसूली का निर्देश दिया था। उसके एवज में अभी तक कुल 1,99,870 रूपए ही वसूले जा सके हैं, जिसमें जेई रवि कुमार ने 84,870 रूपए, पंचायत सेवक प्रेम किस्कू ने 85,000 रूपए तथा रोजगार सेवक बुद्धेश्वर मुरमू ने 30,000 रूपए ही जमा कराया है। इसके अलावा छोटानदी से कालिदासपुर सीमा तक मनरेगा योजना संख्या 340आरसी/2014 के तहत प्राक्लित राशि 9,69,300 रूपए के लागत से स्वीकृत ग्रेड-1पथ निर्माण में भी गड़बड़ी की।इस योजना में भी किए गए कार्य से अधिक 9,66,189 रूपए की निकासी कर ली गई । जबकि सड़क निर्धारित लंबाई से कम बनायी गई थी। जांच के दौरान इस योजना में 67,822 रूपए की अधिक निकासी का आरोप सही पाया गया। हालांकि इस मद में अभी तक कोई वसूली नहीं की गई है। वहीं आइटीडीए द्वारा संचालित योजनाओं के तहत सामग्री आपूर्तिकर्ता आशिष कंस्ट्रक्शन ने भी जेई रवि कुमार के खिलाफ कई गंभीर आरोप लगाया है। जांच के दौरान लगाए गए आरोप सही पाए जाने के बाद रवि कुमार की संविदा रद्द करते हुए राशि वसूली की कार्रवाई शुरू की गई है। हिन्दुस्थान समाचार/ रवि / वंदना-hindusthansamachar.in