गेल कंपनी के सुरक्षाकर्मी को रजरप्पा जंगल से पुलिस ने किया बरामद

गेल कंपनी के सुरक्षाकर्मी को रजरप्पा जंगल से पुलिस ने किया बरामद
police-recovered-gail-company-security-from-rajarappa-forest

-तीन मई को हुआ था अपहरण, 19 दिन तक पुलिस की चलती रही मुहिम रामगढ़, 22 मई (हि.स.)। गेल कंपनी के अपहृत सुरक्षाकर्मी को रामगढ़ पुलिस ने सकुशल बरामद कर लिया है। शनिवार की शाम एसपी प्रभात कुमार ने इस मामले की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि अपहृत सुरक्षाकर्मी रामकुमार प्रजापति को रजरप्पा के जंगल से बरामद कर लिया गया है। हालांकि इस मामले में किसी भी अपराधी की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है। पुलिस की नाकाबंदी और छापेमारी जारी है। उन्होंने बताया कि रामकुमार प्रजापति 19 दिन तक अपराधियों के चंगुल में रहे। पुलिस लगातार अपराधियों पर अपना दबाव बना रही थी। इसका प्रतिफल है कि रामकुमार सकुशल घर लौटे हैं। एसपी ने बताया कि जिन स्थानों पर अपराधियों की गतिविधि रही है, उन सभी ठिकानों पर पुलिस की छापेमारी भी चल रही है। जिस अपराधिक गिरोह ने अपहरण के इस वारदात को अंजाम दिया है, उसकी पहचान भी हो गई है। जल्द ही उनके सभी सदस्यों की गिरफ्तारी भी होगी। जिले में गैस पाइप लाइन का काम कर रही गेल कंपनी के सुरक्षाकर्मी के रूप में कार्यरत रामकुमार प्रजापति का अपहरण रंगदारी के लिए किया गया था अपराधियों ने कंपनी से 25 लाख रुपए की डिमांड की थी। पुलिस के अनुसार छह मई को गोला थाने में कंपनी के एक सुरक्षाकर्मी राम कुंवर प्रजापति के बयान पर 15 अज्ञात लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई थी। रामकुमार प्रजापति बोकारो जिले के पेटरवार थाना क्षेत्र अंतर्गत पुटकाडीह गांव के रहने वाले हैं। चोपादारू के जंगल में चल रहा था कंपनी का काम डीएसपी हेडक्वार्टर संजीव कुमार मिश्रा ने बताया कि गेल कंपनी का अस्थाई बेस कैंप अभी गोला थाना क्षेत्र के चोपादारू के जंगल में स्थापित है। छह मई को थाना पहुंचे सुरक्षाकर्मी राम कुंवर प्रजापति ने बताया था कि वह अपने साथी रामकुमार प्रजापति के साथ सुरक्षा में तैनात था। तीन मई की रात 15 हथियारबंद लोग उनके पास पहुंचे। उन सभी लोगों ने अपना चेहरा ढंका हुआ था। उन लोगों ने दोनों को अपने साथ जंगल की तरफ चलने को कहा। कुछ दूर जाने के बाद हथियारबंद लोगों ने राम कुंवर को यह कह कर छोड़ दिया की अपहरण की इस वारदात की सूचना वह कंपनी के अधिकारियों को दे। हिन्दुस्थान समाचार/अमितेश