pahariya-women-will-prosper-by-producing-cowpea
pahariya-women-will-prosper-by-producing-cowpea
झारखंड

लोबिया उत्पादन कर समृद्ध होंगी पहाड़िया महिलाएं

news

पाकुड़, 28 फरवरी (हि.स.)। पहाड़ों पर उपजने वाली बरबट्टी (लोबिया) का उत्पादन कर आदिम जनजाति की पहाड़िया महिलाएं अब समृद्ध होंगी। इसके मद्देनजर ग्रामीण विकास विभाग की संस्था झारखंड आजीविका मिशन ने कवायद शुरू की है। संस्था ने पहाड़िया महिलाओं से इस उत्पाद को खरीद कर उसे पलाश ब्रांड के नाम से राज्य व राज्य के बाहर बेचने की पूरी तैयारी कर ली है ताकि बिचौलिए इसे औने-पौने दाम पर न खरीद सकें और उत्पादकों को इसका उचित मूल्य मिल सके।साथ ही इससे जुड़ी सखी मंडल की सदस्य लाभान्वित हो सकें और उनके लिए रोजगार के नए अवसर उपलब्ध हो सकें। उल्लेखनीय है कि सरकार के एक साल का कार्यकाल पूरा होने के उपलक्ष्य में पलाश ब्रांड की लांचिंग की गई है। साथ ही जिले में महिलाओं द्वारा उत्पादित वस्तुओं को जिले के महेशपुर में खुले प्रगतिशील फार्मर्स प्रोड्यूसर कंपनी के पैकेजिंग सेंटर में पैकेजिंग कर पलाश ब्रांड के नाम से बाजार में उतारा जाता है। अब तक यहां तैयार उत्पाद आटा, सरसों तेल, पत्तल प्लेट, दाल आदि ने जिले के अलावा दूसरे बजारों में भी अपनी अलग पहचान बनाई है। पलाश ब्रांड की सूची में बरबट्टी का स्थान सबसे ऊपर है। उल्लेखनीय है कि जिले के अमड़ापाड़ा व लिट्टीपाड़ा के पहाड़ों की तलहटी में बरबट्टी की खेती सबसे ज्यादा होती है। यहां बसने वाली पहाड़िया आदिम जनजाति के लोग बरसात शुरू होने से पहले पहाड़ों की तलहटी में बरबट्टी की देशी बीजों का छिड़काव कर देते हैं। बरसात के मौसम में बरबट्टी की फसल लहलहाने लगती है। आंकड़ों के मुताबिक जिले में कमोबेश पांच सौ एकड़ में बरबट्टी की खेती की जाती है। वर्षों से यहां उत्पादित बरबट्टी को इलाके के व्यापारी औने-पौने दाम पर खरीद कर ट्रकों के जरिए कोलकाता, मुंबई, पुणे, बेंगलुरू आदि शहरों में भेज कर मोटी कमाई करते रहे हैं। जानकारों के मुताबिक ज्यादातर व्यापारी बरबट्टी उत्पादक पहाड़ियाओं को बतौर एडवांस बीज व कुछ रुपये देकर उनसे खेती करवाते हैं। फसल तैयार होने पर उत्पादक को अलिखित समझौते के तहत पूर्व निर्धारित हिस्सा देकर शेष फसल लेकर चले जाते हैं। इसी के मद्देनजर अब जेएसएलपीएस मौके से ही इसकी खरीद सीधे करेगी ताकि बिचौलियों द्वारा की जाने वाली लूट पर लगाम लगे। डीसी कुलदीप चौधरी ने बताया कि आदिम जनजाति पहाड़िया समुदाय की आर्थिक स्थिति बेहतर बनाने के लिए सरकार ने यह योजना तैयार की है। इसके लिए अभी से ही उनके बीच काम किया जा रहा है। हिन्दुस्थान समाचार/ कुमार रवि/चंद्र