रांची में बेड की कमी को लेकर सांसद ने की केंद्रीय कोयला मंत्री से बात

रांची में बेड की कमी को लेकर सांसद ने की केंद्रीय कोयला मंत्री से बात
mp-speaks-to-union-coal-minister-over-lack-of-beds-in-ranchi

रांची, 14 अप्रैल (हि.स.)। (अपडेट) रांची में कोरोना की विस्फोटक हो रही स्थिति और अस्पतालों में बेड की कमी को लेकर सांसद संजय सेठ ने केंद्रीय कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी से बुधवार को बात की। सेठ ने उनसे आग्रह किया कि खेलगांव जिसकी देखरेख सीसीएल के द्वारा की जा रही है, यहां पर्याप्त स्थान है। उन्होंने मंत्री को बताया कि सीसीएल यहां पर बेड, ऑक्सीजन सिलेंडर व अन्य आवश्यक संसाधन मुहैया करा सकता है। ऐसा करने से रांची की बड़ी आबादी को राहत भी मिलेगी और उनका समुचित उपचार भी हो सकेगा। सेठ ने कहा कि उक्त कार्य सीसीएल के सीएसआर व अन्य मद के माध्यम से किया जा सकता है। प्रह्लाद जोशी ने उन्हें आश्वस्त किया कि इस मुद्दे पर वे शीघ्र ही सीएमडी से बात कर रहे हैं। मामले की गंभीरता को देखते हुए केंद्रीय मंत्री ने सीसीएल के सीएमडी पीएम प्रसाद को इस दिशा में कार्य करने का निर्देश दिया। सीसीएल के सीएमडी ने सांसद सेठ से बात कर इस पर विस्तृत चर्चा की और कहा कि इसके लिए राज्य सरकार की सहमति आवश्यक होगी। सीएमडी से बात के बाद सांसद सेठ ने तुरंत राज्य के स्वास्थ्य सचिव केके सोन से बात किया। उनसे कहा कि सीसीएल और स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त तत्वावधान में खेलगांव में अविलम्ब आइसोलेशन सेंटर शुरू किया जाए, जहां ऑक्सीजन व अन्य संसाधन मुहैया कराए जाएं। इस दौरान सेठ ने स्पष्ट कहा कि जितनी जल्दी हो सके यह काम शुरू हो जाना चाहिए। साथ ही उन्होंने सीएमडी को भी राज्य सरकार के साथ समन्वय बनाने को कहा। वहीं दूसरी तरफ सेठ ने केंद्रीय रेल मंत्रालय से भी बात की और रांची रेलवे स्टेशन पर खड़े 200 बेड के आइसोलेशन कोच को रेलवे के द्वारा संचालित किए जाने का आग्रह किया, ताकि रांची के नागरिकों की जान बचाई जा सके। उनका समुचित उपचार हो सके। सेठ ने कहा कि सीसीएल इस दिशा में सकारात्मक कार्य करे, ऐसा उन्होंने सीएमडी से कहा है। वहीं उन्होंने कहा कि राज्य सरकार भी जितनी जल्दी इस दिशा में कदम बढ़ाएगी रांची के नागरिकों को उतनी ही जल्दी राहत मिलेगी और उपचार भी शुरू होगा। सेठ ने कहा कि इस दिशा में राज्य सरकार को अविलंब पहल करना चाहिए। इसके अलावा हटिया रेलवे स्टेशन पर खड़े आइसोलेशन कोच के उपयोग की दिशा में भी त्वरित कार्रवाई की जानी चाहिए। वर्तमान समय में रांची के नागरिकों की जान बचाना सबसे प्राथमिकता वाला काम है और उन्हें लगता है सरकार इस दिशा में गंभीरता से काम करेगी। हिन्दुस्थान समाचार/कृष्ण