mla-bandhu-tirkey-demands-to-set-up-rehabilitation-and-displacement-commission
mla-bandhu-tirkey-demands-to-set-up-rehabilitation-and-displacement-commission
झारखंड

विधायक बंधु तिर्की ने की पुनर्वास और विस्थापन आयोग गठित करने की मांग

news

रांची, 18 फरवरी (हि.स.)। राज्य के पूर्व मंत्री और मांडर से विधायक बंधु तिर्की ने झारखंड में पुनर्वास आयोग एवं विस्थापन आयोग गठन करने की मांग की है। बंधु तिर्की गुरुवार को मोरहाबादी स्थित सरकारी आवास में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि झारखंड के आदिवासी और मूलवासी ने एचईसी के लिए 9000 एकड़ जमीन दी थी। जमीन देने के लिए 33 गांव विस्थापित हो गए थे। आज विस्थापितों का कोई अता पता नहीं है। कुछ विस्थापितों को उस समय कुछ पैसा मिला था जिससे कई विस्थापित राज्य के दूसरे जिलों में जाकर बस गए। उन्होंने कहा कि विस्थापितों को विस्थापित करने के लिए दस डिसमिल जमीन मिली थी लेकिन आज भी उस जमीन का मालगुजारी और रसीद नहीं कटती है। ऐसे लोगों को जगह तो दी गई लेकिन कागजात नहीं होने के कारण इनका सर्टिफिकेट नहीं बन पा रहा क्योंकि इनके पास खतियान नहीं है। यह विस्थापित अपने ही राज्य में दूसरे दर्जे के नागरिक हो गए हैं। इनका धार्मिक स्थल सरना और मसना खत्म हो गया है जिस कारण लोग काफी आक्रोशित हैं। उन्होंने कहा कि आज एसईसी अस्पताल में लोगों को जगह नहीं मिल रही है। वहां पर आईटीआई पढ़ रहे विद्यार्थियों को परीक्षा में फेल कर दिया जा रहा है। सरकार से मांग है कि विस्थापित गांव में कैंप लगाकर रसीद काटी जाए ताकि इनका जाति प्रमाण पत्र बन सके। उन्होंने कहा कि इन सभी मांगों को लेकर 14 मार्च को झारखंड विधानसभा के पुराने मैदान में एक कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा जिसमें सभी विस्थापित एकजुट होंगे। इस कार्यक्रम में झारखंड कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेता भी शामिल होंगे और विस्थापितों के हक व अधिकार के लिए आवाज़ उठाएंगे। हिन्दुस्थान समाचार/कृष्ण-hindusthansamachar.in

AD
AD