सीबीएसई के फैसले से झारखंड के लाखों परीक्षार्थियों ने चैन की सांस ली : पासवा

सीबीएसई के फैसले से झारखंड के लाखों परीक्षार्थियों ने चैन की सांस ली : पासवा
millions-of-students-of-jharkhand-breathed-peace-with-cbse-decision-paswa

रांची, 14 अप्रैल (हि.स.)। प्राइवेट स्कूल्स एंड चिल्ड्रेन वेलफेयर एसोसिएशन (पासवा) के प्रदेश अध्यक्ष आलोक कुमार दूबे ने कहा कि पासवा सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन के दसवीं तथा 12वीं की परीक्षा स्थगित करने तथा परीक्षाओं के वैकल्पिक व्यवस्था करने एवं दसवीं के सभी छात्रों को उत्तीर्ण घोषित करने के लिए के लिए सीबीएसई को धन्यवाद देती है। साथ ही आभार प्रकट करती है। उन्होंने बुधवार को कहा निश्चित रूप से इस विषम परिस्थिति में बच्चे परीक्षा देने की स्थिति में नहीं थे। उनके अभिभावक भी काफी तनाव में थे और बच्चों का जीवन सुरक्षित रखना हम सबका प्रथम कर्तव्य था। कोरोना महामारी के दूसरी भयावह फेज में जहां देशभर के सभी निजी विद्यालय, सरकारी विद्यालय, कॉलेज विश्वविद्यालय एवं सभी शिक्षण संस्थाएं बंद कर दी गई थी। ऐसे हालात में सीबीएसई के परीक्षार्थियों के मन में एक भय का वातावरण व्याप्त था। सीबीएसई के फैसले से झारखंड के लाखों परीक्षार्थियों ने चैन की सांस ली है। झारखंड के 20 हजार से अधिक सीबीएसई विद्यालयों के लाखों छात्रों की ओर से हम सीबीएसई को धन्यवाद देते हैं जिन्होंने छात्रों के भविष्य को अंधकार में होने से बचाया है। उन्होंने कहा कि वर्तमान परिस्थिति में हमारे झारखंड की भी स्थिति वैश्विक महामारी के कारण बहुत अच्छी नहीं है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री, आपदा प्रबंधन सह स्वास्थ्य मंत्री तथा झारखंड एकेडमिक काउंसिल के अध्यक्ष से विनम्र अनुरोध है कि जिस तरह वैश्विक महामारी के कारण सीबीएसई बोर्ड की परीक्षा स्थगित कर सभी छात्रों को उत्तीर्ण घोषित कर दिया है तथा वैकल्पिक व्यवस्था की गई है। उसी तरह झारखंड एकेडमिक काउंसिल भी दसवीं तथा 12वीं बोर्ड की परीक्षा स्थगित करे एवं सभी छात्रों को उत्तीर्ण घोषित करे। क्योंकि बच्चे इस वक्त काफी तनाव में हैं तथा परीक्षा देने की स्थिति में नहीं हैं। हिन्दुस्थान समाचार/कृष्ण