औषधीय व सगंध खेती को बढ़ावा दिया जायेगा: उपायुक्त

औषधीय व सगंध खेती को बढ़ावा दिया जायेगा: उपायुक्त
medicinal-and-aromatic-farming-will-be-encouraged-deputy-commissioner

खूंटी, 14 अप्रैल(हि. स.)। औषधीय और सगंध पौधों से तेल निकालने के आसवन ईकाई का उदघाटन बुधवार को जिले के डीसी शशि शशि रंजन ने किया। मौके पर एसपी आशुतोष शेखर, एसडीएम हेमंत सती, जिला कृषि पदाधिकारी कालीपद महतोए बीडीओ प्रदीप भगतए जेएसएलपीएस के डीपीएम शैलेश रंजन, नमन कुमार समेत गांव के पड़हा राजा दाउद मुंडू, मुखिया सोमा कैथाए झरिया महिला संघ की अध्यक्ष फुलमनी बोदरा, अनिल सिंहए राय मुंडूए सेवा वेलफेयर सोसाइटी के अध्यक्ष अजय शर्मा समेत गांव के अन्य लोग उपस्थित थे। डीसी ने आसवन इकाई की प्रशंसा करते हुए कहा कि जिले में औषधीय और सगंध पौघों की खेती को बढ़ावा देने और किसानों को भरपूर मदद जिला प्रशासन देगा। उन्होंने अफीम की खेती की जगह लोगों से लेमनग्रास की खेती करने की अपील की, खूंटी देश भर में लेमनग्रास की खेती के लिए जाना जाए। साथ ही यहां के लोगों को आजीवका का एक बेहतर साधन मिल सके। इधर, कोविड-19 के कारण विधायक नीलकंठ सिंह मुंडा जो इन दिनों सेल्फ आइसोलेट हैं, ने आसवन इकाई के अधिष्ठापन पर खुशी जाहित करते हुए शुभकामनाएं दीं। पैसे के लिए अफीम की खेती की नौबत न आयेे: अजय शर्मा आसवन इकाई के उद्देश पर प्रकाश डालते हुए सोसाइटी के अध्यक्ष अजय शर्मा ने कहा कि औषधीय और सगंध पौधों की खेती को खूंटी में बढ़ावा देना है, ताकि ग्रामीणों को अर्थोपार्जन के लिए अफीम की अवैध खेती करने की नौबत न आए। इसके साथ ही जिले में वैसी जमीन, जहां सिंचाई के साधन उपलब्ध नहीं हैंए वैसे जंगल-झाड़ी के बीच खाली पड़ी जमीन पर लेमनग्रास, तुलसी, पामारोजा आदि की खेती कर आय का श्रोत बनाना है। जिले में इस वर्ष ऐसी ही 200 एकड़ में लेमनग्रास की खेती की गई है। उन्होंने बताया कि सुरूंदा में अधिष्ठापित आसवन इकाई की सभी मशीन असम के नागी ट्रेड एण्ड इंडस्ट्रीज से मंगाई गई है। हिन्दुस्थान समाचार/अनिल