गरीब विरोधी तुगलकी फरमान पर पुनर्विचार करे हेमंत सरकार : दीपक प्रकाश
गरीब विरोधी तुगलकी फरमान पर पुनर्विचार करे हेमंत सरकार : दीपक प्रकाश
झारखंड

गरीब विरोधी तुगलकी फरमान पर पुनर्विचार करे हेमंत सरकार : दीपक प्रकाश

news

रांची, 23 जुलाई ( हि.स.) भाजपा के झारखंड प्रदेश अध्यक्ष एवं सांसद दीपक प्रकाश ने कल की कैबिनेट में मास्क नही लगाने पर एक लाख रुपये के जुर्माने संबंधी अध्यादेश को गरीब विरोधी ,जन विरोधी बताया। प्रकाश ने गुरुवार को कहा कि यह निर्णय तुगलकी फरमान जैसा है जिसमे राज्य की जनता का पुलिस प्रशासन द्वारा भयादोहन होगा।उन्होंने कहा कि राज्य सत्ता का निर्णय लोक कल्याणकारी होना चाहिये न कि थोपने वाला। प्रकाश ने कहा कि यह ठीक है कि जनता के द्वारा कोरोना से बचाव के सारे नियमों का अनुपालन कठोरता से कराया जाना चाहिये,यह समय की मांग है परंतु एक चूक केलिये प्रशाशन को ऐसा भी अवसर नही दिया जाना चाहिये जिसका हवाला देकर वे जनता को अनावश्यक भयाक्रांत करें। प्रकाश ने कहा कि मास्क सबके लिये अनिवार्य नहीं होता। स्वस्थ व्यक्ति केलिये गमछा,रुमाल आदि से फेस को ढकने की अनिवार्यता होनी चाहिये। उन्होंने कहा कि हर जगह विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में मास्क उपलब्ध नही होता परंतु लोग गमछे आदि से अपना फेस अवश्य ढकने में सक्षम हैं। प्रकाश ने राज्य सरकार से दंड की राशि को व्यावहारिक बनाने के लिए अपने फैसले पर पुनर्विचार करने का आग्रह किया। हिंदुस्थान समाचार /विनय/सबा एकबाल-hindusthansamachar.in