कांग्रेस ने कोरोना संक्रमितों को आवश्यक चिकित्सीय परामर्श उपलब्ध कराया

कांग्रेस ने कोरोना संक्रमितों को आवश्यक चिकित्सीय परामर्श उपलब्ध कराया
congress-provides-necessary-medical-consultation-to-corona-infectants

रांची, 26 अप्रैल (हि. स.)। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और मंत्री रामेश्वर उरांव ने कोरोना संक्रमण को लेकर पार्टी की ओर से गठित राहत एवं निगरानी समिति के कंट्रोल रूम के माध्यम से सोमवार को छठवें दिन भी विभिन्न लोगों की समस्याओं के समाधान का प्रयास किया। वहीं स्वास्थ्य विभाग के चेयरमैन डॉ पी नैय्यर के नेतृत्व में डॉक्टरों की टीम ने हेल्प डेस्क के माध्यम से कोरोना संक्रमितों और उनके परिजनों को आवश्यक चिकित्सीय परामर्श उपलब्ध कराया। मौके पर कंट्रोल रूम के प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष केशव महतो कमलेश , प्रदेश प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे, लाल किशोरनाथ शाहदेव, राजेश गुप्ता उपस्थित थे। रामेश्वर उरांव ने बताया कि रांची के सभी प्रमुख अस्पतालों में पार्टी की ओर से मरीजों और अस्पताल प्रबंधन के बीच समन्वय बनाने को लेकर पार्टी नेताओं का मनोनयन किया गया है। इसे लेकर सभी अस्पताल प्रबंधन को उनकी ओर से एक पत्र भी लिखा गया है, ताकि मरीजों की भी परेशानी दूर हो सके और अस्पताल प्रबंधन को भी इलाज करने में सहूलियत हो सके। प्रदेश अध्यक्ष की ओर से अस्पताल प्रबंधन को लिखे गये पत्र में बताया गया है कि राज्य में संक्रमितों की संख्या में निरंतर बढ़ोत्तरी हो रही है। इस विषम परिस्थिति के मद्देनजर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने लोगों के सहायतार्थ राहत एवं निगरानी समिति का गठन किया हैम समिति के सदस्यों को संबद्ध अस्पताल प्रबंधन के साथ समन्वय बैठाकर अस्पताल में भर्ती और इलाज में हर संभव मदद पहुंचाने के दृष्टिकोण से पार्टी पदाधिकारियों को नामित किया गया है। ऐसे में अस्पताल प्रबंधन भी सूची में शामिल पदाधिकारियों के समन्वय बनाकर सेवा भावना से काम करें,ताकि मरीज जल्द से जल्द स्वस्थ होकर घर वापस लौट सके। प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे ने बताया कि कंट्रोल के माध्यम से 42 लोगों को सहायता पहुंचायी गयी। उन्होंने बताया कि हेल्पडेस्क पर फोन करने वालों में दिल्ली से सत्यनारायण भट्ट, वर्षा, लोहरदगा से रंजन भगत, नागराज उरांव, रांची के मुकेश कुमार सिंह, अरविंद कुमार सिंह और रत्ना सिंह, धनबाद से रहमत मियां, दुमका से रानी राज, धनबाद से अमरदीप,पलामू से अमरदीप, कोडरमा से संजय चौधरी समेत अन्य लोग शामिल थे। हेल्प डेस्क पर फोन करने वाले ज्यादा लोगों ने ऑक्सीजन सपोर्टेड बेड, इंजेक्शन और दवाईयों को लेकर संपर्क किया। राहत एवं निगरानी समिति स्थित कंट्रोल रूप में झारखंड के विभिन्न हिस्सों से ही नहीं, बल्कि दूसरे राज्यों से भी मदद के लिए फोन आ रहे है। उन्हें हर संभव सहायता उपलब्ध करायी जा रही है। जबकि जिला स्तरीय राहत एवं निगरानी समिति भी अपने स्तर से हरसंभव मदद की कोशिश में जुटी हुई है। हिन्दुस्थान समाचार/कृष्ण