भाजपा ने  सत्ता हथियाने के लिए सारी हदें पार कर दी : रामेश्वर
भाजपा ने सत्ता हथियाने के लिए सारी हदें पार कर दी : रामेश्वर
झारखंड

भाजपा ने सत्ता हथियाने के लिए सारी हदें पार कर दी : रामेश्वर

news

रांची, 27 जुलाई (हि. स.)। झारखंड कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और मंत्री रामेश्वर उरांव के नेतृत्व में पार्टी ने ‘लोकतंत्र बचाओ-संविधान बचाओ’ कार्यक्रम के तहत सोमवार को दो गज की दूरी का पालन करते हुए राजभवन के समक्ष एक दिवसीय धरना दिया । भारत के संविधान और प्रजातंत्र एवं प्रजातांत्रिक संस्थाओं को बचाने के लिए राजभवन के समक्ष एकदिवसीय धरना प्रदर्शन में पार्टी विधायक दल के नेता आलमगीर आलम, स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता, कृषि मंत्री बादल, पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय, सांसद गीता कोड़ा, प्रदेश के कार्यकारी अध्यक्ष केशव महतो कमलेश आदि शामिल हुए। इस अवसर पर उरांव ने कहा कि वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण काल में जब पूरी दुनिया इस संकट से निपटने के लिए संघर्षरत है। वैसे समय में भाजपा ने सारी हदों को पार करते हुए सत्ता हथियाने के लिए सारी हदें पार कर दी है। देश में आजादी के बाद यह पहली बार हो रहा है, जब राजभवन जैसे संवैधानिक संस्थाओं का दुरुपयोग कर लोकतांत्रिक तरीके से चुनी हुई सरकार को गिराने का काम किया जा रहा है। देश ने यह भी पहली बार देखा है कि केंद्रीय जांच एजेंसियां सीबीआई और ईडी का भी प्रयोग विरोधी दलों के नेताओं को डराने-धमकाने में की जा रही है। जनता यह भी देख रही है कि एक चुनी हुई सरकार जब राज्यपाल से विधानसभा सत्र आहूत करने का आग्रह करती है, तो राज्यपाल द्वारा आना-कानी किया जा रहा है। जनमत का इस तरह से चीरहरण लोकतांत्रिक व्यवस्था की सेहत के लिए ठीक नहीं है। प्रजातंत्र बेड़ियों में है और देश की प्रजातांत्रिक व्यवस्था खतरे में है। उन्होंने कहा कि देश-दुनिया देख रही है। देश की प्रजातांत्रिक मर्यादाओं और संवैधानिक व्यवस्थाओं को तोड़ते हुए चुनी हुई सरकार को गिराने की कोशिश हो रही है। उन्होंने कहा कि जब किसी पार्टी को पूर्ण बहुमत नहीं मिलता है, तो सबसे बड़े दल को सरकार बनाने का मौका दिया जाता है। लेकिन कर्नाटक में किस तरह से सरकार गिरायी गयी, मध्यप्रदेश में सरकार गिरायी गयी और राजस्थान में चुनी हुई सरकार को अस्थिर करने की कोशिश की जा रही है।इसी कारण देश के संवैधानिक मूल्यों की रक्षा के लिए आज लोकतंत्र बचाओ, संविधान बचाओ कार्यक्रम का आयोजन देशभर में किया जा रहा है। आलमगीर आलम ने कहा कि लोकतांत्रिक मूल्यों की हत्या और संवैधानिक संस्थानों को कमजोर करने की घिनौनी हरकत की पार्टी निन्दा करती है। उन्होंने कहा कि केंद्र की भाजपा नेताओं वाली एनडीए सरकार के इस कृत्य से पूरे देश में जनाक्रोश है। बन्ना गुप्ता ने कहा कि हाल के दिनों में जिस तरह से हॉर्स ट्रेडिंग को बढ़ावा देने की कोशिश की गयी है, उससे भाजपा का असली चरित्र देश की जनता के सामने आ गया है। उन्होंने कहा कि देश की जनता ने भाजपा को नकारने का काम किया, तो पिछले दरवाजे से सत्ता हथियाने की कोशिश की जा रही है। बादल पत्रलेख ने कहा कि इस संकट की घड़ी में जब देश की अर्थव्यवस्था चरमरा रही है, लोग बेरोजगार हो रहे है, उद्योग धंधे बंद हो रहे है, लोगों का रोजगार छिन गया है। वैसी स्थिति में मुश्किल में पड़े लोगों को मदद पहुंचाने की जगह भाजपा सत्ता हथियाने की घिनौनी कोशिश में जुटी है। पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा संविधान की धज्ज्यिं उड़ायी जा रही है। सरकार बनाने और बिगाड़ने में राजभवन पर दबाव डाला जा रहा है। हर जगह राजभवन का इस्तेमाल कर सत्ता हथियाने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने कहा कि लड़ाई अब लंबी हो गयी है, संविधान में संघीय ढांचा को पूरी तरह से खत्म करके, हिटलरशाही व्यवस्था को लागू करने की कोशिश की जा रही है। सांसद गीता कोड़ा ने कहा कि कोरोना संकटकाल में भाजपा जिस खेल की शुरुआत की है, वह गलत है। लोकतंत्र का गला घोटने की कोशिश बंद होनी चाहिए और यह खेल नहीं बंद हुआ, तो आंदोलन को तेज किया जाएगा। इस धरना प्रदर्शन में प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष केशव महतो कमलेश, राजेश ठाकुर, प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे, लाल किशोर नाथ शाहदेव, डा राजेश गुप्ता, शमशेर आलम, राजीव रंजन प्रसाद आदि मौजूद थे। हिन्दुस्थान समाचार/कृष्ण/ विनय-hindusthansamachar.in