अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ बिरसा ने आंदोलन का बीड़ा उठाया : स्पीकर

अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ बिरसा ने आंदोलन का बीड़ा उठाया : स्पीकर
birsa-pioneered-the-movement-against-the-british-rule-speaker

रांची, 09 जून (हि. स.)। झारखंड विधानसभा के अध्यक्ष रबीन्द्र नाथ महतो ने बुधवार को भगवान बिरसा मुंडा के 121वीं पुण्यतिथि पर अपने विधानसभा क्षेत्र में उनके तस्वीर पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धा सुमन अर्पित किया। उन्होंने कहा कि भारत के स्वतंत्रता इतिहास में एक ऐसे क्रांतिकारी हुए जिन्हें नेतृत्व के आधार पर भगवान का दर्जा प्राप्त हुआ। अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ उन्होंने आंदोलन का बीड़ा उठाया और उल्गूलान से उपजे पीड़ा को सहते हुए अपने प्राण को त्याग दिए। उनका योगदान और बलिदान अविस्मरणीय रहेगा। इधर, आजसू पार्टी के केंद्रीय अध्यक्ष सुदेश कुमार महतो ने भी बिरसा मुंडा की पुण्यतिथि पर उन्हें नमन किया। उन्होंने कहा कि बिरसा मुंडा के आदर्श एवं विचार को अपने जीवन में आत्मसात करना ही उनके प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी। हमारे ऊपर धरती आबा के सपनों को साकार करने का दायित्व है और हम इसके लिए कृतसंकल्पित हैं। झारखण्ड के हितों और यहां के जनमानस की आन-बान-शान और स्वाभिमान की रक्षा के लिए आजसू पार्टी दृढसंकल्पित है। 22 जून को संकल्प दिवस मनाएगी आजसू आजसू प्रवक्ता देवशरण भगत ने बताया कि 22 जून 1986 को युवाओं ने झारखंड अलग राज्य की लड़ाई को परिणाम तक पहुँचाने के लिए समझौता विहीन संघर्ष करने का संकल्प लिया था। राज्य के हज़ारों युवाओं ने अपने जीवन का बहुमूल्य समय इस संघर्ष के नाम कर दिया, लाठी खाये, जेल गए और कुछ साथी शहीद हो गए। अलग राज्य का गठन भी हो गया, लेकिन उनके सपनों का झारखंड का निर्माण आज भी नहीं हो पाया। आजसू पार्टी उनके सपनों का झारखंड बनाने का संकल्प लेती हैं। 22 जून को सभी प्रखण्डों में रक्तदान शिविर लगाया जाएगा। वृक्षारोपण किया जाएगा। टीएसी में संशोधन संविधान के प्रावधान का उल्लंघन वर्तमान में सरकार ने जनजातीय सलाहकार परिषद (टीएसी) में संशोधन करने का निर्णय लिया है। यह निर्णय संविधान के प्रावधान का खुला उल्लंघन है। यह निर्णय टीएसी के आत्मा के विपरीत है। उन्होंने कहा कि आजसू पार्टी टीएसी में संशोधन का विरोध करती है। इसको लेकर पार्टी का एक प्रतिनिधिमंडल जल्द ही राज्यपाल से मिलेगा और स्मारपत्र देगा। हिन्दुस्थान समाचार/कृष्ण