अपडेट :पत्थलगड़ी की मास्टरमाइंड बेलोस बबिता कच्छप गुजरात में गिरफ्तार

अपडेट :पत्थलगड़ी की मास्टरमाइंड  बेलोस बबिता कच्छप गुजरात में गिरफ्तार
अपडेट :पत्थलगड़ी की मास्टरमाइंड बेलोस बबिता कच्छप गुजरात में गिरफ्तार

देशद्रोह, असंवैधानिक पत्थलगड़ी कराने सहित अन्य संगीन मामले दर्ज हैं खूंटी, 25 जुलाई(हि.स.)असंवैधानिक और परंपराविरोधी पत्थलगड़ी से डेढ़-दो साल तक पूरे जिले को अशांत करने व विकास कार्यों को बाधित करने वाले मास्टरमाइडों में एक स्वयंभू नेता बेलोसा बबिता कच्छप को गुजरात एटीएस ने गुजरात के महिसागर जिले के संतरामपुर से गिरफ्तार कर लिया। बबिता के साथ उसके दो सहयोगी बिरसा ओड़ेया और सामू ओड़ेया नामक दो सगे भाई को भी गिरफ्तार किया गया है। खूंटी पुलिस ने शनिवार को बताया कि पुलिस तीन वर्षों से बबिता की गिरफ्तारी का प्रयास कर रही थी। बबिता के खिलाफ जिले के खूंटीए मुरहू, अडक्ी सहित अन्य थानों मंे देशद्रोह सहित अन्य संगीन धाराओं के तहत कई मामले दर्ज हैं। खूंटी प्रखंड के कांकी गांव में एसपीए डीडीसीए एसडीओए एसडीपीओ सहित एक दर्जन पुलिस इंस्पेक्टरों और दर्जनों जवानों को बंधक बनाने में भी बबिता कच्छप शामिल थी। इसके अलावा मुरहू में असंवैधानिक बैंक खोलने और पूर्व सांसद कडिय़ा मुंडा के आवास से सुरक्षाकर्मियों को अगवा कर उनका हथियार लूटने में भी उसकी संलिप्तता सामने आई थी। इसके अलावा जिले के विभिन्न प्रखंडों में हुई पत्थलगड़ी में भी उसकी महत्वपूर्ण भमिका रही थी। पत्थलगड़ी के मुख्य मास्टरमाइंड युसूफ पूर्ति ऊर्फ प्रोफेसर और सेकंड लाइन की नेता बबिता की गिरफ्तारी के लिए खूंटी पुलिस लगातार प्रयास कर रही थी, पर उसे सफलता नहीं मिल सकी। उल्लेखनीय है कि लगभग चार वर्ष पूर्व जिले के आदिवासी बहुल क्षेत्रों में देश व संविधान विरोधी पत्थलगड़ी आंदोलन ने भूचाल ला दिया था। पत्थलगड़ी आंदोलन के तथाकथित नेता क्षेत्र के भोले भाले आदिवासियों को बरगलाकर उन्हें देश और संविधान के खिलाफ गोलबंद करने के अभियान में जुटे थे। इस दौरान पुलिस प्रशासनिक अधिकारियों सहित दर्जनों जवानों को बंधक बनाना सांसद कड़िया मुंडा के आवास से सुरक्षाकर्मियों का अगवा करनाए हथियार छीननाए अपना निजी बैंक खोलना, बच्चों की पाठ्य सामग्री अपने स्तर पर तैयार करना, सरकारी नियमों को नहीं मानना, सरकारी योजनाओं के लाभ से ग्रामीणों को वंचित करना जैसे ऐसे मामले हुए, जो राष्ट्रीय स्तर तक चर्चा के विषय बने। शुरुआत में पुलिस ने नरमी बरती, लेकिन जब पत्थलगड़ी समर्थकों का हौसला बढ़ने लगा और वह नित्य संविधान विरोधी कार्यों में लिप्त रहने लगे, तो पुलिस ने सख्ती बरतनी शुरू की। इस संबंध में पहला मामला खूंटी थाने में 24 जून 2017 को दर्ज किया गया था। पुलिस ने जब मामला दर्ज कर धरपकड़ अभियान शुरू किया, तो इसके अधिकतर नेता भूमिगत हो गए। जिले के खूंटी, मुरहू और अड़की थाने में पत्थलगड़ी के 19 मामले दर्ज हैं। इन मामलों में 172 नामदर्ज सहित सैकड़ों अज्ञात ग्रामीणों को आरोपी बनाया गया है। इनमें अब तक 45 आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है, वहीं मुख्य मास्टरमाइंड यूसुफ पूर्ति सहित अन्य कई नेता अब भी फरार हैं । बबिता को रिमांड में लेनें का प्रयास करेगी खूंटी पुलिस: एसपी बबिता की गिरफ्तारी के संबंध में एसपी आशुतोष शेखर ने कहा कि गुजरात में बबिता कच्छप और उसके दो सहयोगियों की गिरफ्तारी की सूचना मिली है। पुष्टि करने का प्रयास किया जा रहा है। अब तक गिरफ्तारी की आधिकारिक सूचना नहीं मिली है। पुष्टि होने के बाद बबिता को रिमांड पर लेने का प्रयास किया जाएगा। हिन्दुस्थान समाचार/अनिल/ विनय-hindusthansamachar.in

अन्य खबरें

No stories found.