23 लाख महिलाएं कोरोना वारियर्स बन ग्रामीणों को कर रहीं हैं जागरूक

23 लाख महिलाएं कोरोना वारियर्स बन ग्रामीणों को कर रहीं हैं जागरूक
23-lakh-women-are-becoming-aware-of-corona-warriors-to-villagers

07/05/2021 -सखी मंडल की दीदियों को दिया जा रहा है कोविड अनुरूप व्यवहार का प्रशिक्षण -23 लाख प्रशिक्षित ग्रामीण महिलाएं कोविड अनुरूप व्यवहारों एवं टीकाकरण संबंधित दे रहीं हैं जानकारियां रांची, 07 मई (हि.स.)। राज्य की सखी मंडल की 23 लाख महिलाओं ने ग्रामीण इलाकों में कोरोना वायरस के संक्रमण संबंधित जागरुकता कार्य को बढ़ाने की बागडोर अपने हाथों में ले ली है। सखी मंडल की महिलाएं ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना से बचाव के लिए लगातार लोगों को जागरूक कर रही हैं, जिससे गांव के हर घर तक कोरोना वायरस के प्रति लोगों की जागरुकता बढ़ेगी और वे इसे गंभीरता से लेते हुए संक्रमण की कड़ी को तोड़ने में अपनी भागीदारी निभाएंगे। इस निमित्त ग्रामीण विकास विभाग अंतर्गत झारखण्ड स्टेट लाइवलीहुड प्रमोशन सोसाइटी द्वारा सखी मंडल की महिलाओं को ऑफ-लाइन एवं ऑन-लाइन माध्यमों से कोविड-19 से बचाव एवं टीकाकरण के फायदे को लेकर प्रशिक्षित किया जा रहा है। अब तक करीब 23 लाख ग्रामीण महिलाओं को प्रशिक्षण उपलब्ध कराया जा चुका है ताकि वे अपने परिवार एवं अन्य ग्रामीणों तक कोविड-19 एवं टीकाकरण की जानकारी ससमय उपलब्ध कराकर संक्रमण के चेन को तोड़ने में महत्वपूर्ण भूमिका सकें। सावित्री के प्रयासों से 115 लोगों ने लिया टीका दुमका जिले के जरमुंडी प्रखंड के पटसार गांव की सावित्री देवी राधारानी आजीविका सखी मंडल की सदस्य हैं। सावित्री देवी के प्रयास से उनके गांव के 115 से भी ज्यादा लोगों ने कोविड-19 से बचाव के लिए टीकाकरण करवाया है। सावित्री देवी के निरंतर प्रयास से उनके गांव के लोगो में जहाँ एक तरफ कोरोना वायरस को लेकर जागरुकता बढ़ी है वहीं, दूसरी ओर टीकाकरण से जुड़ी भ्रांतियाँ कम हुई हैं। सावित्री बताती हैं कि उन्हें जेएसएलपीएस के तरफ से गांव में कोविड-19 सम्बंधित जागरुकता का प्रसार करने का प्रशिक्षण प्राप्त हुआ। वह पहले भी कम्युनिटी फैसिलिटेटर का कार्य कर गांव के लोगों तक सरकारी योजनाओं के लाभ से जुड़ी जानकारियां पहुंचाती थी। उन्होंने कोरोना वायरस से जुड़ी जानकारियां ग्रामीणों तक पहुंचाने के लिए घर-घर जाकर लोगों से बात की। उन्हें अफवाहों से दूर रहने की सलाह देने के साथ-साथ मास्क आदि का उपयोग और आपस में उचित सामाजिक दूरी के पालन आदि की भी बात बताई। ग्रामीण इलाकों में अभी भी कोविड-19 के टीकाकरण को लेकर बहुत सी भ्रान्तियां फैली हुई हैं। पहले तो लोग टीकाकरण से संबंधित बात सुनने को तैयार नहीं थे, लेकिन काफी प्रयास और समझाने के बाद अब वे खुद टीकाकरण के लिए आगे बढ़ रहें हैं। दवाई और जागरुकता के संग, जीतेंगे कोरोना से जंग सावित्री जैसी लाखों महिलाएं आज कोविड-19 संक्रमण का प्रशिक्षण लेकर अपने परिवार एवं गांव तक हर जरुरी जानकारी पहुंचा रही है। कोविड के दूसरे लहर के दौरान बढ़ते संक्रमण को देखते हुए गाँवों को संक्रमण से बचाने के लिए सखी मंडल की दीदियों ने मोर्चा संभाल लिया है। ग्रामीण विकास विभाग के तहत जेएसएलपीएस की टीम द्वारा लगातार सखी मंडल की दीदियों को कोविड-19 सम्बंधित जागरुकता प्रशिक्षण दिया जा रहा है, जिससे वे गांवों में लोगों को जागरूक कर सकें। राज्य की सभी 32 लाख सखी मंडल की महिलाओं को इस जागरुकता प्रशिक्षण कार्यक्रम से जोड़ा जा रहा है ताकि ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना वायरस से बचाव और टीकाकरण की जानकारी हर घर तक पहुंचा सकें एवं ग्रामीण क्षेत्रों में संक्रमण खतरनाक दौर में न पहुंचे। हिन्दुस्थान समाचार /वंदना/चंद्र