सदर प्रखंड में चल रहे योजनाओं को पूर्ण कराने का डीसी ने दिया निर्देश ।

सदर प्रखंड में चल रहे योजनाओं को पूर्ण कराने का डीसी ने दिया निर्देश ।
सदर प्रखंड में चल रहे योजनाओं को पूर्ण कराने का डीसी ने दिया निर्देश ।

दुमका, 25 जुलाई (हि.स.)। सदर प्रखंड के बहराबांक पंचायत के कुरुवा गांव, रामपुर पंचायत के जरका ग्राम एवं घासीपुर पंचायत के कुरुमपहाड़ी ग्राम में चल रहे विकास योजनाओं का स्थल निरीक्षण शनिवार को डीसी राजेश्वरी बी ने की। डीसी द्वारा स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण के अंतर्गत निर्मित शौचालयों एवं निर्माणाधीन शौचालयों का बीडीओ सोशल मोबिलाइजर एसबीएम दुमका, मुखिया एवं अन्य की उपस्थिति में योजनाओं का निरीक्षण की। निरीक्षण के क्रम में पाया गया कि एसबीएम अंतर्गत निर्धारित लक्ष्य से कम संख्या में एनओएलबी के शौचालयों का निर्माण हुआ है। डीसी ने बीडीओ को निर्देश दिया कि निर्धारित समय अवधि में शौचालयों का निर्माण एवं जियो टैगिंग का कार्य सुनिश्चित कराये। शौचालय निर्माण के क्रम में देखा गया कि सॉक पिट आयताकार बनाये गयें हैं। जो निर्धारित मॉडल के अनुकूल नहीं है। निर्देश दिया गया कि शौचालय निर्माण के लिए निर्धारित मॉडल के अनुरूप ही निर्माण का कार्य कराया जाये। कुरुवा गांव में प्रधानमंत्री आवास योजना अंतर्गत निर्माणाधीन भवनों का भी निरीक्षण कर ढ़लाई हो चुकी भवनों में शेष कार्य पूर्ण करने का निर्देश दी। वहीं रामपुर पंचायत के जरका गांव में बिरसा हरित ग्राम योजना अंतर्गत आम बागवानी का भी निरीक्षण कर 32 एकड़ भूमि में आम के पौधों को लगाने के लिए गड्ढा तैयार कर आम के पौधे भी कार्यस्थल पर बागवानी कार्य पूर्ण करने का निर्देश दी। इसी क्रम में घासीपुर पंचायत अंतर्गत कुरूमपहाड़ी गांव में अधूरे शौचालय को पूर्ण कराने का निर्देश बीडीओ को दी। डीसी ने शौचालय के लाभुकों को यथाशीघ्र शौचालय निर्माण का कार्य पूर्ण करने का निर्देश दिया। साथ ही उपयोग करने के लिए भी निर्देशित किया। इन गांवों में सोलर पेयजल जलापूर्ति योजना की कई योजनाएं निर्मित की गई है। लेकिन योजनाओं पर इस आशय की सूचना अंकित नहीं है कि यह योजना का पूर्ण विवरण देने का निर्देश दी। डीसी ने निर्देश दिया कि दुमका जिला में निर्मित पेयजल की सभी योजनाओं में उक्त सूचना अवश्य अंकित रहे। सभी कार्यकारी कंपनियां इसे सुनिश्चित करेंगी। हिन्दुस्थान समाचार/ नीरज/सबा एकबाल-hindusthansamachar.in

अन्य खबरें

No stories found.