शारीरिक स्वास्थ्य से अधिक मानसिक स्वास्थ्य जरूरी: डाॅ कुमार
शारीरिक स्वास्थ्य से अधिक मानसिक स्वास्थ्य जरूरी: डाॅ कुमार
झारखंड

शारीरिक स्वास्थ्य से अधिक मानसिक स्वास्थ्य जरूरी: डाॅ कुमार

news

खूंटी,16 अक्टूबर (हि.स.)। विश्व मानसिक स्वास्थ्य सप्ताह के अंतिम दिन शुक्रवार को रनिया प्रखंड स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में गोष्ठी का आयोजन किया गया। इसमें प्रतिभागियों के बीच कोविड-19 एवं मानसिक स्वास्थ्य तथा नशापान, तंबाकू के उत्पादों का सेवन व इसका मानसिक स्वास्थ्य पर प्रभाव एवं आत्महत्या के निवारण के उपाय विस्तार से परिचर्चा आयोेजित की गई। कार्यक्रम का उदघाटन सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, रनिया के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डा पंकज कुमार ने किया। मौके पर उन्होंने कहा कि मानव के लिए जितना शारीरिक स्वास्थ्य आवश्यक है, उससे कहीं अधिक मानसिक स्वास्थ्य जरूरी है। उन्होंने नशापान से होने वाले नुकसान की चर्चा करते हुए लोगों से नशा का त्याग करने की अपील की। एनसीडी सेल के क्लीनिकल साइकोलाॅजिस्ट तेतरा कुमार ने कार्यक्रम का संचालन करते हुए पर कोविड-19 एवं मानसिक स्वास्थ्य और नशापान व इसका मानसिक स्वास्थ्य पर प्रभाव पर विस्तार से प्रकाश डाला। उन्होंने मानसिक स्वास्थ्य की चर्चा करते हुए कहा कि मानसिक बीमारी की शुरुआती दौर में पहचान हो जाने पर रोगी को कम समय व कम खर्चे में ठीक किया जा सकता है। इसलिए मानसिक बीमारी की जल्द से जल्द पहचान कर उसका इलाज कराया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि यदि किसी व्यक्ति को निंद की समस्याए चिड़चिड़ापन, गुस्सा करना, अकेले में बात करने करनाए अकेले में जोर-जोर से हंसना व रोनाए तनाव में रहनाए अदृश्य व्यक्तिध्भगवान की आवाज सुनाई देनाध्दिखाई देना आदि लक्षण हो तो उसे अपने नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र में जाकर चिकित्सक से परामर्श लेना चाहिए। हिन्दुस्थान समाचार/अनिल/वंदना-hindusthansamachar.in