शारदीय नवरात्रि के मौके पर डीएवी स्कूल में रामलीला का हुआ आयोजन
शारदीय नवरात्रि के मौके पर डीएवी स्कूल में रामलीला का हुआ आयोजन
झारखंड

शारदीय नवरात्रि के मौके पर डीएवी स्कूल में रामलीला का हुआ आयोजन

news

रामगढ़, 17 अक्टूबर (हि.स.) । शारदीय नवरात्र शनिवार से प्रारंभ हो गया है। इस मौके पर जिले के निजी विद्यालयों में भी कार्यक्रमों का आयोजन शुरू हो गया है। कोरोना काल में सारे नियम का अनुपालन शिक्षकों के द्वारा किया जा रहा है। नियम के अनुरूप ही डीएवी बरकाकाना में रामलीला का आयोजन किया गया। इसके साथ ही मां दुर्गा की झांकी का भी आयोजन हुआ। कार्यक्रम की शुरूआत क्षेत्रीय निदेशक सह प्राचार्या डाॅ उर्मिला सिंह ने दीप प्रज्जवलित कर किया। उन्होंने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि माँ दुर्गा, शक्ति रूप में कण-कण में विराजमान हैं। उन्हीं की प्रेरणा से समस्त संसार गतिमान् है। यह पर्व उनकी उपासना एवं ध्यान से सम्बन्धित है, जो हमारे अन्दर एक सकारात्मक उर्जा का संचार करती है। जिससे हम हर विपरीत परिस्थिति का डट कर सामना कर पाते हैं। इस प्रबल इच्छा शक्ति के साथ, हम कोरोना महामारी जैसी विषम परिस्थिति में सजगता और निष्ठा के साथ अपने कर्त्तव्य पथ पर अग्रसर हो रहें हैं। इस वर्ष हम दुर्गा पूजा कुछ बन्धनों में मना रहे हैं। क्योंकि बच्चे, जो विद्यालय की आत्मा में बसते हैं, उनकी मोहक ध्वनि और अठखेलियों को देखने के लिए यह प्रांगण अधीरता से प्रतीक्षा कर रहा है। इस आशा के साथ कि हम सभी पुनः एकत्रित होंगे और विद्यालय की रौनक एक बार फिर पूर्ववत होगी। हमारे शिक्षकों द्वारा अपने विद्यालय की परम्परा को जारी रखने के क्रम में रामलीला एवं माँ दुर्गा की झाँकी का मंचन किया गया। यह संदेश देने का प्रयास किया गया कि परिस्थितियाँ चाहें जैसी भी हों हमें धैर्य एवं साहस का साथ कभी नहीं छोड़ना चाहिए। प्रभु श्री राम का चरित्र, जहाँ एक ओर हमें पूरी निष्ठा के साथ, निःस्वार्थ भाव से कर्त्तव्य पथ पर चलने का संदेश देता है, वहीं दूसरी ओर शक्तिस्वरूपा भगवती अनाचारी और दुरात्माओं का मर्दन करती हुई दिखती हैं। प्राचीन काल से ही सनातन धर्म में, स्त्रियों का विशिष्ट स्थान है, कन्याओं के रूप में, माताओं के रूप में उन्हें पूजनीय एवं वन्दनीय माना गया है। अतः हमें अपने वास्तविक जीवन में भी उन्हें समुचित आदर एवं सम्मान देना चाहिए। जिससे हमारे संस्कार कायम रहें और हमारा राष्ट्र सदैव उन्नति के मार्ग पर अग्रसर रहे। हिन्दुस्थान समाचार/ अमितेश/विनय-hindusthansamachar.in