लॉकडाउन में जनता बेहाल, समस्याओं का निदान करें सरकार : भाकपा माले
लॉकडाउन में जनता बेहाल, समस्याओं का निदान करें सरकार : भाकपा माले
झारखंड

लॉकडाउन में जनता बेहाल, समस्याओं का निदान करें सरकार : भाकपा माले

news

रामगढ़, 15 सितंबर (हि.स.) । लॉक डाउन में जनता बेहाल है। लेकिन सरकार उनकी सुध नहीं ले रही है। फाइनेंस कंपनियां हो या सरकारी विभाग, हर जगह लोगों का काम लंबित पड़ा हुआ है। वर्तमान हालत यह है कि आम जनता की समस्याएं बढ़ती ही जा रही है। यह बात मंगलवार को भाकपा माले के नेताओं ने कही। लोगों की समस्या को लेकर शहर में प्रतिरोध मार्च निकाला गया। साथ ही सुभाष चौक पर शारीरिक दूरी बरकरार रखते हुए सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी की गई। इस दौरान माले नेताओं ने कहा कि स्वयं सहायता समूह, आजीविका समूह को आज भी लोन चुकाना पड़ रहा है। पूंजीपतियों के करोड़ों अरबों का लोन माफ किया गया। लेकिन गरीब महिलाएं बैंकों के दबाव में हैं। सरकार को इन सभी समस्याओं का निदान करना चाहिए। इस दौरान श्रम कानून को भी माले नेताओं ने आड़े हाथों लिया। नई शिक्षा नीति और बेरोजगारी के मुद्दे पर माले के नेताओं ने कहा कि सरकार सिर्फ युवाओं को बरगला रही है। उन्हें कोई काम नहीं मिल रहा है। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के दौरान लाखों मजदूर बेरोजगार हो गए हैं। उन्हें ₹10000 का भत्ता दिया जाना चाहिए। इस दौरान माले नेताओं ने कोल इंडिया के नए अध्यादेश पर भी सवाल उठाया है। पार्टी नेताओं ने कहा कि भूमि अधिग्रहण के एवज में रैयतों को नौकरी नहीं देने का फैसला एक काला कानून है। सरकार को यह नीति वापस लेनी चाहिए। अगर जन समस्याओं का निराकरण नहीं होता है तो पार्टी चरणबद्ध आंदोलन करेगी। इस आंदोलन में झारखंड ग्रामीण मजदूर सभा, अखिल भारतीय प्रगतिशील महिला एसोसिएशन, एआईसीसीटीयू ने भी अपनी सहभागिता दी। प्रदर्शन में देवकीनंदन बेदिया, नरेश बड़ाईक, बिजेंद्र ठाकुर,भुनेश्वर बेदिया सहित कई लोग शामिल थे। हिन्दुस्थान समाचार /अमितेश/ वंदना-hindusthansamachar.in