बिना मास्क के निकलने पर एक लाख का जुर्माना और दो साल की सजा को वापस ले सरकार: वामदल

बिना मास्क के निकलने पर एक लाख का जुर्माना और दो साल की सजा को वापस ले सरकार: वामदल
बिना मास्क के निकलने पर एक लाख का जुर्माना और दो साल की सजा को वापस ले सरकार: वामदल

रांची, 24 जुलाई (हि.स.) । वामदल ने राज्य सरकार से बिना मास्क के घर से बाहर निकलने पर एक लाख का जुर्माना और दो साल की सजा को वापस लेने की मांग की है। इस संबंध में शुक्रवार को भाकपा के भुनेश्वर प्रसाद मेहता, भाकपा माले के जनार्दन प्रसाद और माकपा के प्रकाश विप्लव ने संयुक्त रुप से मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर यह मांग की है। पत्र के माध्यम से कहा गया है कि कोरोना के संक्रमण से निपटने के लिए इस गरीब प्रदेश में एक लाख रुपये का जुर्माना और दो साल की सजा उचित नही है। संक्रमण रोकने के लिए एहतियात जरूरी है लेकिन इतनी सख्त सजा का प्रावधान वह भी अध्यादेश द्वारा यह आम लोगों को ही भुगतना पड़ेगा। वामपक्ष की पार्टियों ने मुख्यमंत्री से अपील किया है कि वे अपने इस फैसले पर पुनर्विचार कर इस सख्त कार्रवाई को वापस लें। पत्र में वामदलों ने इस बात का उल्लेख किया है कि मुख्यमंत्री द्वारा हमेशा गलत नियमों और कानूनों का विरोध किया जाता रहा है इसलिए वे इस मामले पर लचीला रवैया अपनायेंगे। इस प्रावधान का दुरुपयोग भी होगा क्योंकि इसे लागू करने के उत्साह में पुलिस की भूमिका पर कोई नियंत्रण नहीं रहेगा। वामदलों ने मुख्यमंत्री को उनके द्वारा पिछले दिनों बुलायी गयी सर्वदलीय बैठक मे वामदलों के उन सुझावों पर गौर करने की अपील की गयी है जिसमें कोरोना महामारी से निपटने के लिए प्रखंड स्तर तक राजनीतिक दलों, जन संगठनों, सामाजिक संगठनों और ट्रेड यूनियनों के कार्यकताओं को लेकर एक कमिटी बनाए जाने की बात कही गई थी ताकि जनता के सहयोग से बडे पैमाने पर जागरूकता अभियान संगठित कर आम लोगों को सहयोग के लिए प्रेरित किया जा सके। क्योकि बिना जनसहयोग के इस गंभीर समस्या से निपटना संभव नहीं है। हिंदुस्थान समाचार/ विकास/ विनय-hindusthansamachar.in

अन्य खबरें

No stories found.