बिजली विभाग के अधिकारियों और केबुल कंपनी केईआई की लापरवाही के खिलाफ आंदोलन का निर्णय
बिजली विभाग के अधिकारियों और केबुल कंपनी केईआई की लापरवाही के खिलाफ आंदोलन का निर्णय
झारखंड

बिजली विभाग के अधिकारियों और केबुल कंपनी केईआई की लापरवाही के खिलाफ आंदोलन का निर्णय

news

रांची, 15 अक्टूबर (हि. स.)। झारखंड की राजधानी रांची सहित राज्य के विभिन्न हिस्सों में बिजली विभाग के कुछ अधिकारियों और केबुल कंपनी केईआई की लापरवाही के खिलाफ प्रदेश कांग्रेस ने आंदोलन को तेज करने का निर्णय लिया है।पार्टी ने कार्रवाई नहीं होने पर केबुल कंपनी के रांची स्थित कार्यालय में अनिश्चितकालीन तालाबंदी करने की बात कही है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे ने गुरुवार को कहा कि लगभग प्रतिदिन रांची सहित राज्य के विभिन्न शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में करंट लगने से लोगों की मौत हो रही है। बिजली विभाग और केबुल कंपनी की लापरवाही से निरंतर हो रही दुर्घटनाओं पर अंकुश लगाने , दोषियों के मुकदमा दर्ज करने और पीड़ित परिवार को मुआवजा व नौकरी दिलाने की मांग को लेकर 16 अक्टूबर को झारखंड राज्य विद्युत विभाग के सीएमडी अविनाश कुमार से एक शिष्टमंडल मुलाकात करेगा। दूबे ने बताया कि बिजली विभाग की लापरवाही की ओर सरकार का ध्यान आकृष्ट कराने के लिए पूर्व में ही एक शिष्टमंडल ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से मुलाकात कर उन्हें सारे तथ्यों की जानकारी सौंपी दी। एक बार फिर पार्टी नेताओं का शिष्टमंडल उनसे मुलाकात कर उचित कार्रवाई का आग्रह करेगा। उन्होंने कहा कि यदि जल्द ही मामले में कार्रवाई नहीं होती है, तो केईआई कंपनी के रांची स्थित कार्यालय में अनिश्चितकालीन तालाबंदी के कार्यक्रम की घोषणा की जाएगी। पहले पोली कैब और अब केईआई कंपनी झारखण्ड की जनता की गाढ़ी कमाई को लूट रही है,कांग्रेस पार्टी उसको भगाकर ही दम लेगी। आलोक दूबे ने कहा कि अगर जरूरत पड़ी तो केईआई कंपनी के 80 इंडस्ट्रियल एरिया फेज वन ओखला नई दिल्ली स्थित कार्यालय में प्रदर्शन किया जाएगा ताकि इसके करतूतों को पूरे राष्ट्रीय स्तर पर बताया जा सके। उन्होंने कहा अविनाश कुमार से मांग की जाएगी कि केईआई कंपनी को ब्लैकलिस्ट किया जाए एवं मुख्य अभियन्ता श्रवन कुमार के ऊपर प्राथमिकी दर्ज की जाए। हिन्दुस्थान समाचार/कृष्ण/विनय-hindusthansamachar.in