बिजली विभाग की लापरवाही के कारण लगातार मौत हो रही है : कांग्रेस
बिजली विभाग की लापरवाही के कारण लगातार मौत हो रही है : कांग्रेस
झारखंड

बिजली विभाग की लापरवाही के कारण लगातार मौत हो रही है : कांग्रेस

news

रांची, 30 जुलाई (हि. स.)। झारखंड कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे और राजेश गुप्ता ने रांची के चान्हो थाना क्षेत्र अंतर्गत लुडरी गांव निवासी 25 वर्षीय युवक मनोज उरांव के करंट लगने से हुई मौत पर दुःख व्यक्त किया है। उन्होंने गुरुवार को कहा कि बिजली विभाग की लापरवाही के कारण लगातार मौत हो रही है। लेकिन दोषियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं होने से ऐसे लापरवाह अधिकारियों का मनोबल भी दिनों दिन बढ़ता जा रहा है। प्रवक्ताओं ने कहा कि लुडरी निवासी मनोज उरांव बुधवार सुबह अपने खेत में पानी पटाने गया था। इसी दौरान वह बिजली के तार की चपेट में आ गया। उन्होंने इस दुर्घटना में मारे गये मृतक के परिजनों को मुआवजा दिये जाने की मांग की है और मुआवजा नहीं मिलने पर आंदोलन की बात की है। प्रवक्ताओं ने कहा कि राज्य में निरंतर बिजली विभाग और केईआई कंपनी की लापरवाही के कारण लोगों की जान जा रही है। वहीं दूसरी तरफ कई लोग दुर्घटना के शिकार होकर जीवन भर के लिए अपंग हो चुके हैं। ऐसे लोगों की भी सूची तैयार की जा रही है।अब तक उनके पास प्राप्त सूची के अनुसार 21 लोगों की करंट लगने से मौत हो चुकी है, जबकि कई जिलों से अभी पूरी रिपोर्ट प्राप्त नहीं हो पायी है। सभी जिलों के आंकड़ों को एकत्रित करने पर यह साफ हो जाएगा कि लॉकडाउन अवधि में कोरोना से जितने लोगों की मौत हुई है। उससे अधिक मौत बिजली करंट लगने से आमजनों व बिजली विभाग के कर्मचारियों की मौत हो गयी है। कितने लोगों ने करंट के प्रभाव से अपना हाथ पैर गंवाए हैं। पार्टी की ओर से इसे लेकर चरणबद्ध तरीके से आंदोलन चलाया जा रहा है। 29 जुलाई बुधवार को रांची स्थित बिजली मुख्यालय के बाहर सामाजिक दूरी का पालन करते हुए सोशल मीडिया के माध्यम से विरोध प्रदर्शन किया गया। प्रवक्ताओं ने कहा कि बिजली विभाग एवं केईआई कंपनी की लापरवाही को लेकर सोशल मीडिया के माध्यम से बिजली बोर्ड कार्यालय के समक्ष विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा। 31 जुलाई को डोरंडा स्थित महाप्रबंधक कार्यालय एवं ईडी कार्यालय बिजली विभाग के समक्ष विरोध प्रदर्शन किया जाएगा एवं सोशल मीडिया के माध्यम से विरोध फेसबुक लाइव किया जाएगा। हिन्दुस्थान समाचार/कृष्ण/ विनय-hindusthansamachar.in