देश में कृषि विधेयक पारित करने वाला दिन निश्चित रूप से देश के लिए एक काला दिवस है: ब्रजेंद्र प्रसाद सिंह
देश में कृषि विधेयक पारित करने वाला दिन निश्चित रूप से देश के लिए एक काला दिवस है: ब्रजेंद्र प्रसाद सिंह
झारखंड

देश में कृषि विधेयक पारित करने वाला दिन निश्चित रूप से देश के लिए एक काला दिवस है: ब्रजेंद्र प्रसाद सिंह

news

धनबाद, 22 सितंबर (हि.स.) । धनबाद जिला कांग्रेस कमेटी के तत्वधान में मंगलवार को जिलाध्यक्ष ब्रजेंद्र प्रसाद सिंह की अध्यक्षता में केंद्र सरकार द्वारा तानाशाही पूर्वक देश में कृषि विधेयक पारित करने के विरोध में आवश्यक बैठक आयोजित की गई । बैठक को संबोधित करते हुए जिलाध्यक्ष ब्रजेंद्र प्रसाद सिंह ने कहा कि केंद्र सरकार व उपसभापति हरिवंश नारायण सिंह ने तानाशाही पूर्वक लोकतंत्र को गुमराह एवं दिग्भ्रमित कर कृषि विधेयक पारित करके देश के किसानों एवं गरीबों को छलने का काम किया है,यह बिल्कुल लोकतंत्र की हत्या है। किसानों की आमदनी दुगुना करने की बात एवं घोषणा करने वाली मोदी सरकार ने देश के किसानों, गरीबों एवं कृषि क्षेत्र से जुड़े लोगों को दिग्भ्रमित कर संसद में किसानों से संबंधित बिल उनकी सभी शंकाओं को दूर किए बिना पास कर दिए गए हैं। देश में कृषि सुधार बिल पारित कर उप सभापति ने तानाशाही रवैया अपनाकर किसानों के मनोबल को तोड़ने का काम किया है। देश में कृषि विधेयक पारित करने वाला दिन निश्चित रूप से देश के लिए एक काला दिवस है। मोदी सरकार ने देश के किसान और उनकी रोजी-रोटी पर सीधे रूप से आक्रमण किया है। श्री सिंह ने कहा कि राज्यसभा में बहुमत नहीं रहने के बावजूद इस बिल को पास कर दिया गया। इस उपसभापति हरिवंश नारायण सिंह ने इस बिल को पास कराकर नंगा नाच किया है। उनके इस लोकतांत्रिक, जनविरोधी व किसान विरोधी निर्णय का धनबाद जिला कांग्रेस कमेटी घोर निंदा करती है। इस बिल से खासकर देश के मध्यम एवं छोटे किसानों को काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ेगा, देश में( एम.एस.पी) न्यूनतम समर्थन मूल्य को केंद्र सरकार द्वारा सुनियोजित रूप से बंद करने की साजिश कर रही है एवं इस बिल के माध्यम से बड़े कारपोरेट घरानों एवं उद्योगपतियों को सीधे रूप से लाभ पहुंचाने की प्रक्रिया चल रही है। जिससे बिचौलियों की साम्राज्य कायम हो जाएगी यह बिल बिल्कुल किसान विरोधी काला कानून है। केंद्र सरकार एक तरफ किसानों को दोगुना आमदनी उपलब्ध कराने की बात करती है, दूसरी ओर देश में कृषि विधेयक लाया जा रहा है। केंद्र सरकार की गलत नीतियों के कारण पहले से ही किसान वर्ग त्रस्त एवं आत्महत्या कर रही है। दूसरी और कृषि विधेयक लाना बिल्कुल किसान विरोधी विधेयक है। इस विधेयक को लाये जाने को लेकर देश की गरीब जनता व किसान वर्ग हतोत्साहित एवं आक्रोशित है। सिंह ने कहा कि मौजूदा स्थिति में देश की जनता आर्थिक संकटों से जूझ रही है, देश की आर्थिक स्थिति एवं अर्थव्यवस्था चरमरा गई है। लोग लाचार, विवश एवं हतोत्साहित है, देश के किसानों, गरीब मजदूरों एवं बेरोजगारों की स्थिति दयनीय है, महंगाई चरम सीमा पर है, साधारण व व्यवसायी वर्ग परेशान एवं त्रस्त है। इस महत्वपूर्ण कृषि विधेयक बिल को जनहित व किसानहित में यदि केंद्र सरकार द्वारा इस बिल का संशोधन एवं वापस नहीं की गई, तो कांग्रेस पार्टी जरूरत पड़ी तो सड़क से लेकर सदन तक जोरदार आंदोलन करेगी। मौके पर मदन महतो, शमशेर आलम, बीके सिंह, योगेंद्र सिंह योगी, मनोज सिंह, राशिद रजा अंसारी, राजेश्वर सिंह यादव,रमेश जिंदल,मनोज यादव, दिनेश सिंह, पप्पू कुमार तिवारी, मो. कैयुम खान, प्रमोद यादव, संजय कुमार आदि अन्य उपस्थित थे। हिन्दुस्थान समाचार / बिमल /विनय-hindusthansamachar.in